रोज़ेदार

Author: Admin Labels::


फ़िरदौस खान
अमूमन तीन तरह के रोज़ेदार हुआ करते हैं... पहली तरह के रोज़ेदारों के पास एसी हैं... ये लोग सहरी करते हैं. फ़ज्र की नमाज़ पढ़कर एसी रूम में सो जाते हैं और तीन-चार बजे उठते हैं. ज़ुहर पढ़ते हैं, असर पढ़ते हैं और फिर इफ़्तारी की तैयारी में लग जाते हैं... इनके पास इफ़्तारी में दुनिया की हर शय होती है...

दूसरी तरह के रोज़ेदारों के पास एसी तो दूर कूलर तक नहीं हैं... ये लोग रोज़े की हालत में सुबह से शाम तक काम करते हैं और शाम को थोड़ा-बहुत इफ़्तारी और सहरी का सामान लेकर घर आते हैं... इनकी औरतें रोज़े की हालत में गर्मी से बचने के लिए पानी में भीगे दुपट्टे लपेटती हैं...

तीसरी तरह के रोज़ेदारों के पास पंखे तक नहीं है... ये लोग दिनभर मेहनत करते हैं, जब कहीं जाकर इनके घरों में चूल्हे जलते हैं... इन्हें सहरी और इफ़्तारी में रोटी भी मिल जाए, तो ग़नीमत है...

अल्लाह सबके रोज़े क़ुबूल फ़रमाए, आमीन



0 comments |

सोने और चांदी के गहने की ज़कात

Author: Admin Labels:: ,

विद्वान इस बात पर सहमत हैं सोने और चाँदी के आभूषणों पर ज़कात अनिवार्य है यदि वह गहना हराम इस्तेमाल के लिए है, या वह व्यापार इत्यादि के लिए तैयार किया गया है। किन्तु अगर वह वैध आभूषण है जो इस्तेमाल के लिए, या उधार देने के लिए तैयार किया गया है जैसे कि चाँदी की अंगूठी, महिलाओं का आभूषण तथा जो हथियार के दस्तें के लिए वैध किया गया है, तो इस में ज़कात के अनिवार्य होने के बारे में विद्वानों का मतभेद है। कुछ विद्वान इस बात की ओर गये हैं कि उस में ज़कात अनिवार्य है क्योंकि वह अल्लाह तआला के इस कथन के सामान्य अर्थ के अंतर्गत आता है : “और जो लोग सोने चाँदी का कोष (खज़ाना) रखते हैं और उसे अल्लाह के मार्ग में खर्च नहीं करते उन्हें कष्टदायक सज़ा की सूचना पहुँचा दीजिए।” (सूरतुत्तौबा :34)

क़ुर्तुबी अपनी तफसीर में कहते हैं : इब्ने उमर रज़ियल्लाहु अन्हुमा ने सहीह बुखारी में इस अर्थ का वर्णन किया है, एक दीहाती ने उन से कहा : मुझे अल्लाह तआला के फरमान : “और जो लोग सोना और चाँदी इकट्ठा कर के रखते हैं।” के बारे में बतायें। इब्ने उमर ने कहा : “जिस ने उसे इकट्ठा कर के रखा और उस का ज़कात नहीं दिया तो उस के लिए बर्बादी है, यह ज़कात का आदेश उतरने से पहले था, जब ज़कात का आदेश आ गया तो अल्लाह तआला ने उसे धन के शुद्धिकरण का साधन बना दिया।” (बुखारी 2/111 (तालीक़न), 5/204 (तालीक़न), इब्ने माजा 1/569 – 570 (हदीस संख्या : 1787), बैहक़ी 4/82)

तथा इसलिए भी कि ऐसी हदीसें आई हैं जो इस बात की अपेक्षा करती हैं, उन्हीं में से वह हदीस है जिसे अबू दाऊद, नसाई और तिर्मिज़ी ने अम्र बिन शुऐब से और उन्हों ने अपने बाप और दादा के द्वारा रिवायत किया है कि : एक महिला नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के पास आई जिस के साथ उस की एक लड़की भी थी, और उसकी लड़की के हाथ में दो सोने के मोटे कंगन थे। तो आप सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने उस से कहा : “क्या तुम इस की ज़कात देती हो ?” उस ने कहा : नहीं। आप ने फरमाया : “क्या तुम्हें यह बात पसंद है कि अल्लाह तआला क़ियामत के दिन तुझे इन के बदले आग के दो कंगन पहनाये ?” इस पर उस महिला ने उन दोनों को निकाल कर नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की ओर फेंक दिया और कहा कि : वे दोनों अल्लाह और उस के रसूल के लिए हैं।

(अहमद 2/178, 204, 208, अबू दाऊद 2/212 (हदीस संख्या : 1563), तिर्मिज़ी 3/29-30 (हदीस संख्या :637), नसाई 5/38 (हदीस संख्या : 2479, 2480), दारक़ुतनी 2/112, इब्ने अबी शैबा 3/153, अबू उबैद (किताबुल अमवाल पृ0 537 हदीस संख्या : 1260, संस्करण हर्रास), बैहक़ी 4/140)

तथा अबू दाऊद ने अपनी सुनन में, हाकिम ने अपनी मुसतदरक में और दारक़ुतनी और बैहक़ी ने अपनी अपनी सुनन में आइशा रज़ियल्लाहु अन्हा से रिवायत किया है कि उन्हों ने कहा : अल्लाह के पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम मेरे पास आये तो आप ने मेरे हाथ में चाँदी के छल्ले देख कर फरमाया : “ऐ आइशा, यह क्या है ?” मैं ने कहा : ऐ अल्लाह के पैगंबर, मैं ने इन्हें इस लिए तैयार किया है ताकि आप के लिए बनवा-सिंघार करूँ। आप ने फरमाया : “क्या तुम इन की ज़कात देती हो ?” मैं ने कहा : नहीं या जो अल्लाह ने चाहा, आप ने फरमाया : “यह तुम्हारे नरक के लिए काफी है।” (अबू दाऊद 2/312 हदीस संख्या : 1565, और शब्द अबू दाऊद के ही हैं, दारक़ुतनी 2/105-106, हाकिम 1/389-390, बैहक़ी 4/139)

तथा वह हदीस भी आधार है जिसे उन्हों ने उम्मे सलमह से रिवायत किया है कि उन्हों ने कहा : मैं सोने के आभूषण पहनती थी तो मैं ने कहा : ऐ अल्लाह के पैगंबर, क्या यह खज़ाना है ? तो आप ने फरमाया : “जो ज़कात अदा किये जाने की राशि को पहुँच गया और उस का ज़कात निकाल दिया गया तो वह खज़ाना नहीं है।” (अबू दाऊद 2/212-213 हदीस संख्या : 1564, दारक़ुतनी 2/105, हाकिम 1/390, बैहक़ी 4/83, 140)

तथा कुछ लोग इस बात की ओर गये हैं कि उस में ज़कात अनिवार्य नहीं है ; क्योंकि वह जाइज़ इस्तेमाल के द्वारा कपड़े और अन्य वस्तुओं की तरह बन गया, वह मूल्यों के वर्ग से नहीं रह गया। तथा उन्हों ने आयत के सामान्य अर्थ का उत्तर यह दिया है कि वह सहाबा किराम रज़ियल्लाहु अन्हुम के अमल से विशिष्ट हो जाता है, क्योंकि सहीह (शुद्ध) इसनाद के द्वारा आइशा रज़ियल्लाहु अन्हा से प्रमाणित है कि वह अपने भाई की अनाथ बेटियों की देखभाल करती थीं जिन के पास आभूषण थे, तो वे उन की ज़क़ात नहीं निकालती थीं।

तथा दारक़ुतनी ने अपनी इसनाद के साथ अस्मा बिन्त अबू बक्र रज़ियल्लाहु अन्हा से रिवायत किया है कि वह अपनी बेटियों को सोने के आभूषण पहनाती थीं और उन की ज़कात नहीं निकालती थीं, जिन का मूल्य लगभग पचास हज़ार था। (सुनन दारक़ुतनी 2/109)

अबू उबैद अपनी किताब “अल-अमवाल” में कहते हैं : हम से हदीस बयान किया इसमाईल बिन इब्राहीम ने, उन्हों ने रिवायत किया नाफिअ़ से और उन्हों ने रिवायत किया इब्ने उमर रज़ियल्लाहु अन्हुमा से कि वह अपनी बेटियों में से एक औरत की शादी दस हज़ार पर करते थे और वह उन में से चार हज़ार का उस के लिए आभूषण तैयार करते थे। उन्हों ने कहा कि तो वे उस की ज़कात नहीं देते थे। (दारकु़तनी ने इसी के समान रिवायत किया है 2/109, अबू उबैद ने अल-अमवाल में रिवायत किया है, पृ0 540 हदीस संख्या : 1276, (हर्रास संस्करण), बैहक़ी 4/138).

तथा उन्हों ने कहा : इसमाईल बिन इब्राहीम ने हम से हदीस बयान किया अय्यूब से, और उन्हों ने अम्र बिन दीनार से कि उन्हों ने कहा कि : जाबिर बिन अब्दुल्लाह से पूछा गया कि : क्या आभूषण में ज़कात है ? उन्हों ने उत्तर दिया : नहीं, कहा गया: यदि वह दस हज़ार को पहुँच जाये ? कहा : यह बहुत है। (इसे शाफेई ने अपनी मुसनद (सिंदी के क्रम के साथ) 1/228 हदीस संख्या : 629 में और अल-उम्म 2/41 में रिवायत किया है, अबू उबैद किताबुल अमवाल पृ0 540 हदीस संख्या : 1275 (हर्रास संस्करण), बैहक़ी 4/138).

इन दोनों कथनों में सब से उच्च कथन उन लोगों का है जिन्हों ने आभूषण में ज़कात के अनिवार्य होने की बात कही है, जबकि वह निसाब (ज़कात के अनिवार्य होने की न्यूनतम राशि) को पहुँच जाये, या उस के मालिक के पास सोने और चाँदी, या व्यापार के सामान में से इतनी राशि हो जिस से निसाब पूरा हो जाये ; क्योकि सोने और चाँदी में ज़कात के अनिवार्य होने की हदीस सामान्य है, और हमारे ज्ञान के अनुसार उस को विशिष्ट करने वाला कोई प्रमाण नहीं है, तथा अब्दुल्लाह बिन अम्र बिन आस, आइशा और उम्मे सलमह रज़ियल्लाहु अन्हुम की पीछे उल्लिखित हदीसों के आधार पर, और उन हदीसों की सनदें जैयिद हैं, उन में कोई प्रभावकारी आपत्ति नहीं है, अत: उन पर अमल करना अनिवार्य है। जहाँ तक तिर्मिज़ी और इब्ने हज़्म और मौसिली के उन को ज़ईफ क़रार देने का संबंध है तो हमारे ज्ञान के अनुसार उसका कोई अधार नहीं है, जबकि ज्ञात होना चाहिए कि तिर्मिज़ी रहिमहुल्लाह ने जो कुछ उल्लेख किया है उस में वह माज़ूर हैं, क्योंकि उन्हों ने अब्दुल्लाह बिन अम्र बिन आस की हदीस को ज़ईफ तरीक़ों से रिवायत किया है, जबकि अबू दाऊद, नसाई और इब्ने माजा ने उसे दूसरे शुद्ध तरीक़ों से रिवायत किया है, शायद कि तिर्मिज़ी रहिमहुल्लाह को इस का पता नहीं चला।

और अल्लाह ही के हाथ में तौफीक़ (शक्ति का स्रोत) है, तथा अल्लाह तआला हमारे ईश्दूत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम और आप की संतान तथा आप के साथियों पर दया और शांति अवतरित करे।

Courtesy islamqa

0 comments |

या ख़ुदा तूने अता फिर कर दिया रमज़ान है...

Author: Admin Labels:: , , ,


फ़िरदौस ख़ान
मरहबा सद मरहबा आमदे-रमज़ान है
खिल उठे मुरझाए दिल, ताज़ा हुआ ईमान है
हम गुनाहगारों पे ये कितना बड़ा अहसान है
या ख़ुदा तूने अता फिर कर दिया रमज़ान है...
माहे-रमज़ान इबादत, नेकियों और रौनक़ का महीना है. यह हिजरी कैलेंडर का नौवां महीना होता है. इस्लाम के मुताबिक़ अल्लाह ने अपने बंदों पर पांच चीज़ें फ़र्ज क़ी हैं, जिनमें कलमा, नमाज़, रोज़ा, हज और ज़कात शामिल है. रोज़े का फ़र्ज़ अदा करने का मौक़ा रमज़ान में आता है. कहा जाता है कि रमज़ान में हर नेकी का सवाब 70 नेकियों के बराबर होता है और इस महीने में इबादत करने पर 70 गुना सवाब हासिल होता है. इसी मुबारक माह में अल्लाह ने हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर क़ु़रआन नाज़िल किया था. यह भी कहा जाता है कि इस महीने में अल्लाह शैतान को क़ैद कर देता है.

इबादत
रमज़ान से पहले मस्जिदों में रंग-रोग़न का काम पूरा कर लिया जाता है. मस्जिदों में शामियाने लग जाते हैं. रमज़ान का चांद देखने के साथ ही इशा की नमाज़ के बाद तरावीह पढ़ने का सिलसिला शुरू हो जाता है. रमज़ान के महीने में जमात के साथ क़ियामुल्लैल (रात को नमाज़ पढ़ना) करने को 'तरावीह' कहते हैं. इसका वक्त रात में इशा की नमाज़ के बाद फ़ज्र की नमाज़ से पहले तक है. हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने रमज़ान में क़ियामुल्लैल में बेहद दिलचस्पी ली. आपने फ़रमाया कि ''जिसने ईमान के साथ और अज्र व सवाब (पुण्य) हासिल करने की नीयत से रमज़ान में क़ियामुल्लैल किया, उसके पिछले सारे गुनाह माफ़ कर दिए जाएंगे.''उन्होंने फ़रमाया कि ''यह ऐसा महीना है कि इसका पहला हिस्सा अल्लाह की रहमत है, दरमियानी हिस्सा मग़फ़िरत है और आख़िरी हिस्सा जहन्नुम की आग से छुटकारा है.'' रमज़ान के तीसरे हिस्से को अशरा भी कहा जाता है. आपने फ़रमाया कि ''रमज़ान के आख़िरी अशरे की ताक़ (विषम) रातों में लैलतुल क़द्र की तलाश करो.'' लैलतुल क़द्र को शबे-क़द्र भी कहा जाता है. शबे-क़द्र के बारे में क़ुरआन में कहा गया है कि यह हज़ार रातों से बेहतर है, यानि इस रात में इबादत करने का सवाब एक हज़ार रातों की इबादत के बराबर है. मुसलमान रमज़ान की 21, 23, 25, 27 और 29 तारीख़ को पूरी रात इबादत करते हैं.

ख़ुशनूदी ख़ान कहती हैं- इस महीने में क़ुरआन नाज़िल हुआ, इसलिए रमज़ान बहुत ख़ास है. हर मुसलमान के लिए यह महीना मुक़द्दस और आला है. हमें इस महीने की अहमियत को समझते हुए ज़्यादा से ज़्यादा वक़्त इबादत में गुज़ारना चाहिए. वैसे भी रमज़ान में हर नेकी और इबादत का सवाब साल के दूसरे महीनों से ज़्यादा ही मिलता है. वे कहती हैं कि शबे-क़द्र को उनके ख़नदान के सभी लोग रातभर जागते हैं. मर्द इबादत के लिए मस्जिदों में चले जाते हैं और औरतें घर पर इबादत करती हैं.

वहीं, ज़ुबैर कहते हैं कि काम की वजह से पांचों वक़्त क़ी नमाज़ नहीं हो पाती, लेकिन रमज़ान में उनकी कोशिश रहती है कि नमाज़ और रोज़ा क़ायम हो सके. दोस्तों के साथ मस्जिद में जाकर तरावीह पढ़ने की बात ही कुछ और है. इस महीने की रौनक़ों को देखकर कायनात की ख़ूबसूरती का अहसास होता है. रमज़ान हमें नेकियां और इबादत करने का सबक़ देता है और हमें अल्लाह के क़रीब करता है.

ज़ायक़ा
माहे-रमज़ान में हर तरफ़ ज़ायक़ेदार व्यंजनों की भरमार रहती है. रमज़ान का ज़िक्र लज़ीज़ व्यंजनों के बग़ैर मुकम्मल नहीं होता. रमज़ान का ख़ास व्यंजन हैं फैनी, सेवइयां और खजला. सुबह सहरी के वक़्त फ़ैनी को दूध में भिगोकर खाया जाता है. इसी तरह सेवइयों को दूध और मावे के साथ पकाया जाता है. फिर इसमें चीनी और सूखे मेवे मिलाकर परोसा जाता है. इसके अलावा मीठी डबल रोटी भी सहरी का एक ख़ास व्यंजन है. ख़ास तरह की यह मीठी डबल रोटी अमूमन रमज़ान में ही ज़्यादा देखने को मिलती है.

इफ़्तार के पकवानों की फ़ेहरिस्त बहुत लंबी है. अमूमन रोज़ा खजूर के साथ खोला जाता है. दिनभर के रोज़े के बाद शिकंजी और तरह-तरह के शर्बत गले को तर करते हैं. फलों का चाट इफ़्तार के खाने का एक अहम हिस्सा है. ताज़े फलों की चाट रोज़े के बाद ताज़गी का अहसास तो कराती ही है, साथ ही यह पौष्टिक तत्वों से भी भरपूर होती है. इसके अलावा ज़ायक़ेदार पकौड़ियां और तले मसालेदार चने भी रोज़ेदारों की पसंद में शामिल हैं. खाने में बिरयानी, नहारी, क़ौरमा, क़ीमा, नरगिसी कोफ़्ते, सींक कबाब और गोश्त से बने दूसरे लज़ीज़ व्यंजन शामिल रहते हैं. इन्हें रोटी या नान के साथ खाया जाता है. रुमाली रोटी भी इनके ज़ायके को और बढ़ा देती है. इसके अलावा बाकरखानी भी रमज़ान में ख़ूब खाई जाती है. यह एक बड़े बिस्कुट जैसी होती है और इसे क़ोरमे के साथ खाया जाता है. बिरयानी में हैदराबादी बिरयानी और मुरादाबादी बिरयानी का जवाब नहीं. मीठे में ज़र्दा, शाही टुकड़े, फिरनी और हलवा-परांठा दस्तरख़ान पर की शोभा बढ़ाते हैं.
ज़ीनत कहती हैं कि रमज़ान में यूं तो दिन में ज़्यादा काम नहीं होता, लेकिन सहरी के वक़्त और शाम को काम बढ़ जाता है. इफ़्तार के लिए खाना तो घर में ही तैयार होता है, लेकिन रोटियों की जगह हम बाहर से नान या रुमाली रोटियां मंगाना ज़्यादा पसंद करते हैं.
रमज़ान में रोटी बनाने वालों का काम बहुत ज़्यादा बढ़ जाता है. दिल्ली में जामा मस्जिद के पास रोटी बनाने वालों की कई दुकानें हैं. यहां तरह-तरह की रोटियां बनाई जाती हैं, जैसे रुमाली रोटी, नान, बेसनी रोटी आदि. अमूमन इस इलाके क़े होटल वाले भी इन्हीं से रोटियां मंगाते हैं.

हदीस
जो साहिबे-हैसियत हैं, रमज़ान में उनके घरों में लंबे-चौड़े दस्तरख़्वान लगते हैं. इफ़्तार और सहरी में लज़ीज़ चीज़ें हुआ करती हैं, लेकिन जो ग़रीब हैं, वो इन नेअमतों से महरूम रह जाते हैं. हमें चाहिए कि हम अपने उन रिश्तेदारों और पड़ौसियों के घर भी इफ़्तार और सहरी के लिए कुछ चीज़ें भेजें, जिनके दस्तरख़्वान कुशादा नहीं होते. ये हमारे हुज़ूर हज़रत मुहम्‍मद सल्‍लललाहू अलैहिवसल्‍लम का फ़रमान है.
आप (सल्‍लललाहू अलैहिवसल्‍लम) फ़रमाते हैं- रमज़ान सब्र का महीना है यानी रोज़ा रखने में कुछ तकलीफ़ हो, तो इस बर्दाश्‍त करें. फिर आपने कहा कि रमज़ान ग़म बांटने का महीना है यानी ग़रीबों के साथ अच्‍छा बर्ताव किया जाए. अगर दस चीज़ें अपने रोज़ा इफ़्तार के लिए लाए हैं, तो दो-चार चीज़ें ग़रीबों के लिए भी लाएं.
यानी अपने इफ़्तार और सहरी के खाने में ग़रीबों का भी ख़्याल रखें. अगर आपका पड़ौसी ग़रीब है, तो उसका ख़ासतौर पर ख़्याल रखें कि कहीं ऐसा न हो कि हम तो ख़ूब पेट भर कर खा रहे हैं और हमारा पड़ौसी थोड़ा खाकर सो रहा है.

ख़रीददारी
रमज़ान में बाज़ार की रौनक़ को चार चांद लग जाते हैं. रमज़ान में दिल्ली के मीना बाज़ार की रौनक़ के तो क्या कहने. दुकानों पर चमचमाते ज़री वाले व अन्य वैरायटी के कपड़े, नक़्क़ाशी वाले पारंपरिक बर्तन और इत्र की महक के बीच ख़रीददारी करती औरतें, साथ में चहकते बच्चे. रमज़ान में तरह-तरह का नया सामान बाज़ार में आने लगता है. लोग रमज़ान में ही ईद की ख़रीददारी शुरू कर देते हैं. आधी रात तक बाज़ार सजते हैं. इस दौरान सबसे ज़्यादा कपड़ों की ख़रीददारी होती है. दर्ज़ियों का काम बढ़ जाता है. इसलिए लोग ख़ासकर महिलाएं ईद से पहले ही कपड़े सिलवा लेना चाहती हैं. अलविदा जुमे को भी नये कपड़े पहनकर नमाज़ पढ़ने का दस्तूर है. हर बार नये डिज़ाइनों के कपड़े बाज़ार में आते हैं. नेट, शिफ़ौन, जॉरजेट पर कुन्दन वर्क, सिक्वेंस वर्क, रेशम वर्क और मोतियों का काम महिलाओं को ख़ासा आकर्षित करता है. दिल्ली व अन्य शहरों के बाज़ारों में कोलकाता, सूरत और मुंबई के कपड़ों की धूम रहती है. इसके अलावा सदाबहार चिकन का काम भी ख़ूब पसंद किया जाता है। पुरानी दिल्ली के कपड़ा व्यापारी शाकिर अली कहते हैं कि बाज़ार में जिस चीज़ का मांग बढ़ने लगती है हम उसे ही मंगवाना शुरू कर देते हैं. ईद के महीने में शादी-ब्याह भी ज़्यादा होते हैं. इसलिए माहे-रमज़ान में शादी की शॉपिंग भी जमकर होती है. शादियों में आज भी पारंपरिक पहनावे ग़रारे को ख़ासा पसंद किया जाता है.

चूड़ियों और मेहंदी के बिना ईद की ख़रीददारी अधूरी है. रंग-बिरंगी चूड़ियां सदियों से औरतों को लुभाती रही हैं. चूड़ियों के बग़ैर सिंगार पूरा नहीं होता. बाज़ार में तरह-तरह की चूड़ियों की बहार है, जिनमें कांच की चूड़ियां, लाख की चूड़ियां, सोने-चांदी की चूड़िया, और मेटल की चूड़ियां शामिल हैं. सोने की चूड़ियां तो अमीर तबक़े तक ही सीमित हैं. ख़ास बात यह भी है कि आज भी महिलाओं को पारंपरिक कांच की रंग-बिरंगी चूड़ियां ही ज़्यादा आकर्षित करती हैं. बाज़ार में कांच की नगों वाली चूड़ियों की भी ख़ासी मांग है. कॉलेज जाने वाली लड़कियां और कामकाजी महिलाएं मेटल और प्लास्टिक की चूड़ियां ज़्यादा पसंद करती हैं, क्योंकि यह कम आवाज़ करती हैं और टूटती भी नहीं हैं, जबकि कांच की नाज़ुक चूड़ियां ज़्यादा दिनों तक हाथ में नहीं टिक पातीं.

इसके अलावा मस्जिदों के पास लगने वाली हाटें भी रमज़ान की रौनक़ को और बढ़ा देती हैं. इत्र, लोबान और अगरबत्तियों से महक माहौल को सुगंधित कर देती है. इत्र जन्नतुल-फ़िरदौस, बेला, गुलाब, चमेली और हिना का ख़ूब पसंद किया जाता है. रमज़ान में मिस्वाक से दांत साफ़ करना सुन्नत माना जाता है. इसलिए इसकी मांग भी बढ़ जाती है. रमज़ान में टोपियों की बिक्री भी ख़ूब होती है. पहले लोग लखनवी दुपल्ली टोपी ज्यादा पसंद करते थे, लेकिन अब टोपियों की नई वैरायटी पेश की जा रही हैं. अब तो लोग विभिन्न राज्यों की संस्कृतियों से सराबोर पारंपरिक टोपी भी पसंद कर रहे हैं. इसके अलावा अरबी रुमाल भी ख़ूब बिक रहे हैं. रमज़ान के मौक़े पर इस्लामी साहित्य, तक़रीरों, नअत, हम्द,क़व्वालियों की कैसेट सीटी और डीवीडी की मांग बढ़ जाती है.

यूं तो दुनियाभर में ख़ासकर इस्लामी देशों में रमज़ान बहुत अक़ीदत के साथ मनाया जाता है, लेकिन हिन्दुस्तान की बात ही कुछ और है. विभिन्न संस्कृतियों के देश भारत में मुसलमानों के अलावा ग़ैर मुस्लिम लोग भी रोज़े रखते हैं. कंवर सिंह का कहना है कि वे पिछले कई सालों से रमज़ान में रोज़े रखते आ रहे हैं. रमज़ान के दौरान वे सुबह सूरज निकलने के बाद से सूरज छुपने तक कुछ नहीं खाते. उन्हें विश्वास है कि अल्लाह उनके रोज़ों को ज़रूर क़ुबूल करेगा. भारत देश की यही महानता है कि यहां सभी धर्मों के लोग मिलजुल कर त्योहार मनाते हैं. यही जज़्बात गंगा-जमुनी तहज़ीब को बरक़रार रखते हैं.

तस्वीर गूगल से साभार

0 comments |

नमाज़ का तर्जुमा

Author: Admin Labels:: , , ,


सूरह हम्द का तर्जुमा

بِسْمِ اللّهِ الرَّحْمَنِ الرَّحِيمِ«1»     शुरु करता हूँ, उस अल्लाह के नाम से जो दुनिया में मोमिनों व काफ़िरों सब पर रहम करता है और आख़ेरत में मोमिनों पर रहम करेगा।
الْحَمْدُ لِلّهِ رَبِّ الْعَالَمِينَ «2»   सारी तारीफ़े उस अल्लाह के लिये मख़सूस हैं जो जहानों की परवरिश करने वाला है।
اَلرَّحْمَنِ الرَّحِيمِ «3» जो दुनिया में सब पर रहम करने वाला और आख़िरत में सिर्फ़ मोमिनीन पर रहम करने  वाला है।
مَالِكِ يَوْمِ الدِّينِ «4» जो क़ियामत के दिन का मालिक है।
إِيَّاكَ نَعْبُدُ وإِيَّاكَ نَسْتَعِينُ «5» हम सिर्फ़ तेरी इबादत करते हैं और सिर्फ़ तुझ से मदद माँगते हैं।
اِهْدِنَا الصِّرَاطَ المُسْتَقِيمَ «6» हम को सिराते मुसतक़ीम पर साबित क़दम रख।
صِرَاطَ الَّذِينَ أَنعَمْتَ عَلَيهِمْ  ऐसे लोगों का रास्ता जिन पर तूने अपनी नेअमतें नाज़िल की है।( वह पैग़म्बर और ुनके जानशीन हैं)
غَيرِ المَغضُوبِ عَلَيهِمْ وَلاَ الضَّالِّينَ उन लोगों का रास्ता नही जिन पर तूने क़हर नाज़िल किया और न उन लोगों का रास्ता जो गुमराह हैं।

सूरः ए क़ुल हुवल्लाहु अहद का तर्जुमा

بِسْمِ اللّهِ الرَّحْمَنِ الرَّحِيمِ«1 शुरु करता हूँ, उस अल्लाह के नाम से जो दुनिया में मोमिनों व काफ़िरों सब पर रहम करता है और आख़ेरत में मोमिनों पर रहम करेगा।
قُلْ هُوَ اللَّهُ أَحَدٌ «2» ऐ मेरे नबी आप कह दीजिए वह अल्लाह एक है।
اللَّهُ الصَّمَدُ «3»  वह सबसे बेनियाज़ है। ( उसे किसी की अवश्यक्ता नही है)
لَمْ يَلِدْ وَلَمْ يُولَدْ «4» न उसके कोई औलाद है और न वह किसी की औलाद है। 
وَلَمْ يَكُن لَّهُ كُفُوًا أَحَدٌ «5» यानी तमाम मख़लूक़ात में कोई उसके जैसा नही है।

रूकूअ और सजदे के ज़िक्र की तर्जुमा

سبحان ربي العظيم و بحمده मेरा अज़ीम अल्लाह हर बुराई और कमी से पाक व पाकीज़ा है और मैं उसकी हम्द कर रहा हूँ।
سبحان ربي الاعلي و بحمده. मेरा अल्लाह जो सबसे बड़ा है, वह हर बुराई और कमी से पाक व पाक़ीज़ा है और मैं उसकी हम्द कर रहा हूँ।

रुकूअ और सजदे के बाद के ज़िक्र का तर्जुमा

سمع الله لمن حمده  यानी अल्लाह, तारीफ़ करने वालों की तारीफ़ को सुनता और क़बूल करता है।
استغفر الله ربي و اتوب اليه  मैं, उस अल्लाह से अपने गुनाहों की माफ़ी चाहता हूँ जो मेरा पालने वाला है और मैं उसकी तरफ़ पलटता हूँ।
بحول الله وقوته اقوم و اقعود     यानी मैं अल्लाह की मदद और ताक़त से उठता बैठता हूँ।

क़ुनूत का तर्जुमा

 لا اله الا  الله الحليم الكريم لا اله الا  الله العلي العظيم سبحان الله رب السموات السبع و الارضين السبع و ما بينهن ورب العرش العظيم و الحمد لله رب العلمين कोई इबादत के लायक़ नही है, सिवाए उस अल्लाह के जो हिल्म और करम वाला है और कोई बंदगी के लायक नही है सिवाए उस अल्लाह के जो बुलंद मर्तबा और बुज़ुर्गी व अज़मत वाला है।  पाक व पाक़ीज़ा है वह अल्लाह जो सात आसमानों व ज़मीनों और उन दोनो उनके दरमियान की हर चीज़ और अर्शे अज़ीम का परवरदिगार है। हम्द व तारीफ़, उस अल्लाह से मख़सूस है जो तमाम मौजूदात का मालिक है।

तसबीहात का तर्जुम

سبحان الله و الحمد لله ولا اله الا الله و الله اكبر   अल्लाह तअला पाक व पाक़ीज़ा है, हम्द व तारीफ़ उसी के लिये मख़सूस है, उसके अलावा कोई माबूद नही है, अल्लाह उससे कहीँ बड़ा है कि उसकी तारीफ़ की जाये।

तशह्हुद का तर्जुमा

اشهد ان لا اله الا الله وحده لا شريك له मैं गवाही देता हूँ कि अल्लाह के अलावा कोई इबादत के क़ाबिल नही है वह अकेला है उसका कोई शरीक नही है।
و اشهد ان محمدا عبده و رسوله   और मैं गवाही देता हूँ कि मुहम्मद(स) अल्लाह के बंदे और उसके रसूल हैं।
اللهم صل علي محمد وال محمد  ऐ अल्लाह, मुहम्मद और उनकी औलाद पर रहमतें नाज़िल कर।

सलाम का तर्जुमा

 السلام عليك ايها النبي و رحمة الله و بركاته ऐ नबी, आप पर सलाम हो और आप पर अल्लाह की रहमत व बरकत नाज़िल हो।
السلام علينا  وعلي عباد الله الصالحين   हम पर और अल्लाह के तमाम नेक बंदों पर सलाम हो।
السلام عليكم  و رحمة الله و بركاته   ऐ मोमिनों, तुम पर सलाम और तुम पर अल्लाह की रहमतें और बरकतें नाज़िल हों।

ताक़ीबाते नमाज़ (नमाज़ के बाद पढ़ी जाने वाली चीज़ें)

1141.मुस्तहब है कि इंसान नमाज़ के बाद ज़िक्र व दुआ व तिलावते क़ुरआन करे और उसी चीज़ को "ताक़ीब" कहते हैं। बेहतर है कि अपनी जगह से उठने और वुज़ू टूटने से पहले क़िबले की तरफ़ मुँह करके ताक़ीबात पढ़े और यह ज़रूरी नही कि ताक़ीबात अरबी में पढ़े, लेकिन बेहतर है कि उन चीज़ों को पढ़े जिनके बारे में दुआओ की किताबों में बयान हुआ है। जिस ताक़ीब की सबसे ज़्यादा ताकीद की गई है वह हज़रत फ़ातिमा ज़हरा (स.) की तस्बीह है जिसमें 34 बार अल्लाहु अकबर, 33 बार अलहम्दु लिल्लाह और 33 बार सुब्हान अल्लाह है। सुब्हान अल्लाह को अलहम्दु लिल्लाह से पहले पढ़ सकते हैं लेकिन बेहतर यही है कि सुब्हान अल्लाह को बाद में ही कहा जाये।
1142.मुस्तहब है कि इंसान नमाज़ के बाद एक सजद ए शुक्र करे और इसके लिए इतना काफ़ी है कि इंसान अपने सर को शुक्र की निय्यत से ज़मीन पर रखदे। लेकिन बेहतर है कि 100 बार या 3 बार या 1 बार शुकरन लिल्लाह,या शुकरन, या अफ़वन, कहे। इसी तरह यह भी मुसतहब है कि जब इंसान को कोई नेमत मिले या ुससे कोई मुसीबत टले तो फ़ौरन शुक्र का सजदा करे।

पैग़म्बरे इस्लाम (स.) पर सलवात भेजना

1143.जब इंसान पैग़म्बरे इस्लाम (स) का कोई नाम जैसे मुहम्मद, अहमद, या लक़ब व कूनिय्यत जैसे मुस्तफा, अबुल क़ासिम, वग़ैरह अपनी ज़बान से ले या किसी दूसरे से सुने, तो मुसतहब है कि आप पर सलवात भेजे, चाहे नमाज़ की हालत में ही हो।
1144.पैग़म्बरे इस्लाम (स) का नाम लिखते वक़्त सलवात का लिखना मुस्तहब है। बेहतर है कि जब भी हज़रत(स) को याद करे आप पर सलवात भेजे।
Courtesy lankarani

0 comments |

रोटी बैंक

Author: Admin Labels:: ,


फ़िरदौस ख़ान
इंसान चाहे, तो क्या नहीं कर सकता. उत्तर प्रदेश के महोबा ज़िले के बाशिन्दों ने वो नेक कारनामा कर दिखाया है, जिसके लिए इंसानियत हमेशा उन पर फ़ख़्र करेगी.  बुंदेली समाज के अध्यक्ष हाजी मुट्टन चच्चा और संयोजक तारा पाटकर ने कुछ लोगों के साथ मिलकर एक ऐसे बैंक की शुरुआत की है, जो भूखों को रोटी मुहैया कराता है.
बीती 15 अप्रैल से शुरू हुए इस बैंक में हर घर से दो रोटियां ली जाती हैं. शुरू में इस बैंक को सिर्फ़ 10 घरों से ही रोटी मिलती थी, लेकिन रफ़्ता-रफ़्ता इनकी तादाद बढ़ने लगी और अब 400 घरों से रोटियां मिलती हैं. इस तरह हर रोज़ बैंक के पास 800 रोटियां जमा हो जाती हैं,  जिन्हें पैकेट बनाकर ज़रूरतमंद लोगों तक पहुंचाया जाता है. इस वक़्त 40 युवा और पांच वरिष्ठ नागरिक इस मुहिम को चला रहे हैं.
शाम को युवा घर-घर जाकर रोटी और सब्ज़ी जमा करते हैं. फिर इनके पैकेट बनाकर इन्हें उन लोगों को पहुंचाते हैं, जिनके पास खाने का कोई इंतज़ाम नहीं है. पैकिंग का काम महिलाएं करती हैं. इस काम में तीन से चार घंटे का वक़्त लगता है. फ़िलहाल बैंक एक वक़्त का खाना ही मुहैया करा रहा है, भविष्य में दोनों वक़्त का खाना देने की योजना है.
इस नेक काम में लगे लोग बहुत ख़ुश हैं. अगर देशभर में इस तरह के रोटी बैंक खुल जाएं, तो फिर कोई भूखा नहीं सोएगा.

तस्वीर गूगल से साभार

0 comments |

रमज़ान और ग़रीबों का हक़

Author: Admin Labels:: , ,


रमज़ान आ रहा है... जो साहिबे-हैसियत हैं, रमज़ान में उनके घरों में लंबे-चौड़े दस्तरख़्वान लगते हैं... इफ़्तार और सहरी में लज़ीज़ चीज़ें हुआ करती हैं, लेकिन जो ग़रीब हैं, वो इन नेअमतों से महरूम रह जाते हैं...
हमें चाहिए कि हम अपने उन रिश्तेदारों और पड़ौसियों के घर भी इफ़्तार और सहरी के लिए कुछ चीज़ें भेजें, जिनके दस्तरख़्वान कुशादा नहीं होते...
ये हमारे हुज़ूर हज़रत मुहम्‍मद सल्‍लललाहू अलैहिवसल्‍लम का फ़रमान है...
आप (सल्‍लललाहू अलैहिवसल्‍लम) फ़रमाते हैं- रमज़ान सब्र का महीना है यानी रोज़ा रखने में कुछ तकलीफ़ हो, तो इस बर्दाश्‍त करें. फिर आपने कहा कि रमज़ान ग़म बांटने का महीना है यानी ग़रीबों के साथ अच्‍छा बर्ताव किया जाए. अगर दस चीज़ें अपने रोज़ा इफ़्तार के लिए लाए हैं, तो दो-चार चीज़ें ग़रीबों के लिए भी लाएं...
यानी अपने इफ़्तार और सहरी के खाने में ग़रीबों का भी ख़्याल रखें... अगर आपका पड़ौसी ग़रीब है, तो उसका ख़ासतौर पर ख़्याल रखें कि कहीं ऐसा न हो कि हम तो ख़ूब पेट भर कर खा रहे हैं और हमारा पड़ौसी थोड़ा खाकर सो रहा है...
-फ़िरदौस ख़ान

तस्वीर गूगल से साभार

0 comments |

फ़ातिमा के शहज़ादों के ईद के नये कपड़े

Author: Admin Labels:: ,


रमज़ानुल मुबारक की 29 तारीख़ थी.
ईमाम हसन (र.) की उम्र मुबारक 5 साल और ईमाम हुसैन (र.) की उम्र 4 साल 2 माह की थी.
सय्यदा फातिमा चक्की पीस कर फ़ारिग़ होती हैं. आपने जा-नमाज़ बिछाई और इरादा किया कि नमाज़ पढ़ लूं कि तभी हज़रत इमाम हसन और हुसैन (र.) दौड़ते हुए आये और जा-नमाज़ पर लेट गए.
सय्यदा ने उठने को कहा, तो दोनों शहज़ादे मचल गये और कहने लगे-
अम्मीजान ! सुबह ईद हो जाएगी. ईद के रोज़ सब नये नये कपड़े पहनेंगे. हमें भी नये कपड़े मंगवा के दे दीजिए.
सय्यदा फ़ातिमा का दिल हिल गया. आपने बच्चों को सीने से लगाकर कहा-
मेरे चांद ! मुझे नमाज़ पढ़ लेने दो. कल तुम्हें नये कपड़े मंगवाकर दूंगी.
अम्मी ! कल तो ईद है. कपड़े अगर आए, तो सिलेंगे कैसे...? हज़रत हसन (र.) ने पूछा.
आपने फ़रमाया फ़िक्र न करो बेटा. दर्ज़ी तुम्हारे लिए सिले सिलाये कपड़े लाएगा. और फिर सय्यदा फ़ातिमा ने नमाज़ पढ़नी शुरू कर दी. नमाज़ के बाद बारगाहे ख़ुदावन्दी में हाथ उठा दिए.
बारी तआला ! तू सब कुछ जानता है. तेरी इस बन्दी ने सिर्फ़ इसलिए बच्चों से कपड़ों का वादा कर लिया कि उनका दिल न टूटे.
मेरे ख़ुदा ! तू ख़ूब जानता है कि फ़ातिमा ने कभी झूट नहीं बोला.
या अल्लाह ! मेरे उठे हुए हाथों की लाज रखना. मैने तेरी रहमत के सहारे पर बच्चों से नये कपड़ों का वादा कर लिया है. मेरे वादे की लाज रखना मौला.
इफ़्तारी का वक़्त हो गया. ईद का चांद नज़र आ गया. मदीना मुनव्वरा में मुनादी हो रही थी. बच्चे अभी से ईद की तैयारी कर रहे थे. रात को सोते वक़्त फ़ातिमा के शहज़ादों ने फिर अपना वादा अम्मी को याद दिला दिया.
फ़ज्र की अज़ान हुई. सय्यदा फ़ातिमा ने नमाज़ अदा की. अभी दुआ के लिए हाथ उठाये ही थे कि दरवाज़े पे दस्तक हुई.
आपने पूछे कौन है ?
आवाज़ आई - बिन्ते रसूल! आपका दर्ज़ी हूं, शहज़ादों के कपड़े लाया हूं. आपने ग़ैबी मदद समझ कर कपड़े ले
लिए. हसन और हुसैन (र.) को कपड़े पहना दिए. दोनों ख़ुश होते हुए मस्जिद-ए-नबवी में नाना जान को कपड़े दिखाने गए.
रसूले-ख़ुदा (सअव) मस्जिद-ए-नबवी के कच्चे फ़र्श पर लेटे हुए थे. आप (सअव) ने दोनों शहज़ादों को देखा, तो बहुत ख़ुश हुए. फिर आप (सअव) बेटी के घर तशरीफ़ लाए और मुस्कराते हुए पूछा- बेटी यह कपड़े कहां से आए हैं ?
आपने अर्ज़ किया- अब्बाजान ! एक दर्ज़ी दे गया है.
आप (सअव) ने फ़रमाया- बेटी जानती हो, वो दरज़ी कौन था ?
सय्यदा फ़ातिमा ने कहा अल्लाह और उसका रसूल बेहतर जानतें हैं.
सरकारे-दो आलम (सअव) ने फ़रमाया- बेटी आपका दर्ज़ बनकर आने वाले जिब्राईल थे. और ये जोड़े वह अल्लाह के हुक्म से जन्नत से लाए थे.
हज़रत फ़ातिमा (र.) ने ख़ुदा का शुक्र अदा किया.
उधर हज़रत अली के नन्हे-नन्हे शहज़ादे खुशी से हुज़ूर (सअव) की चादर को सर पर रखकर आपसे बार-बार लिपट रहे थे.
सुब्हान अल्लाह

साभार साजिद क़ुरैशी

0 comments |

Organ Donation Is A Noble Act

Author: Admin Labels::


Maulana Wahiduddin Khan
God Almighty created human beings and all other forms of life. Everything big or small that we enjoy in this world is a gift from the Creator. The Quran says,“He has given you all that you asked of Him.” (14:34). By ourselves, we cannot create something out of nothing.Without Divine Grace, it would not be possible for us to live comfortably on planet Earth. If we suffer an injury and apply the right medicine, the injury is cured because our body accepts the treatment. It’s a divine blessing, because that the body accepts healing is also something facilitated by cosmic forces.We could not have created this capacity all by ourselves.
Another such blessing is chloroform.It was its use that made medical surgery possible. Referring to this divine blessing,the Scottish surgeon John Brown (1810-1882) said:“One of God’s best gifts to His suffering children.” The medical procedure of organ transplantation also figures in the long list of divine blessings.Organ transplantation is the removing of an organ from the donor’s body and giving it to another for the purpose of  replacing the recipient’s damaged or absent organ. This discovery has made a valuable addition to the list of donations that human beings can make.

Traditionally,donation was the giving of food or money. But now, it has become possible for a person to donate an organ, such as eye, kidney or blood,for example,to another person, so that the latter can become well once again and lead a healthy life.Currently,as per medical advances,12 kinds of organs can be donated and transplanted.If the organ of one person is transplanted into the body of another by means of surgery and the recipient’s body accepts the donor’s organ, this is a biological miracle.It was the Creator who invested the human body withthis potential.
Had the human body not been created with this capacity, organ transplantation would not have  been at all possible.Thus, organ transplantation is also a part of the creation process as is the organ itself.When something is part of Creation, it is more than right to say that since the Creator created this capability in the human body,it is also required that we should discover this possibility and utilise it for our benefit.

It is an Islamic teaching that every man and woman must live in society as a giver-member. Organ donation does not in any way go against religious teaching and is as good as the  donation of food and money.This is a great human value; there is no doubt about it.

In Islam, there is a concept called sadqa jariya, or continued charity. It means that if one donates something and its benefit reaches people even after the death of the donor, then that is continued charity. It would be appropriate  to say that modern medical science has added a very useful item to the list of sadqa jariya.
Medical science tells us that whenone person donates an organ of hisbody to another, this is a totally safeprocedure so long as routine precautionsare taken and the recipient’s body does not reject the donated organ dueto the body’s natural defence mechanism.For the donor,there is no risk orharm in this practice.Organ donation is the noblest form of charity.

Courtesy The Speaking Tree

0 comments |

Khane se Pehle aur Baad ki Sunnatain

Author: फ़िरदौस ख़ान Labels::


1. khana khane se pehle bismillah (Bismillahi wa ala baraka Tillah) padhlena chahiye, Huzoor sallaallahu alaihi wasallam ne aik km umr sahabi R.A se khitab karte huwe ye hukum diya, “ aye bacche! Allah ka Naam lo, sidhe hath se khao aur apne samne jo hai waha se khao”.(Muslim)
2. is hadees se bismillah k alawa aur 2 sunnaton ka saboot mila wo ye k sidhe hath se khana chahiye,
3. aur teesri sunnat ye hai k Apne samne se khayen yani jo cheez apne samne hai wo khayen.
4.khane k douran agar luqma gir jaye to us ko saaf kar k khalena chahiye Huzoor sallaallahu alaihi wasallam ne irshad farmaya: Jub tum me se kisi k hath se luqma gir jaye to jo kuch us ko laga ho wo door karde phir khale.(Muslim)
5.Teen ungliyon se khayen, Huzoor sallaallahu alaihi wasallam Teen ungliyon se khaya karte the.(Muslim)Han! Agar koi aisi cheez ho jis ka Teen ungliyon se khana mumkin na ho to phir gunjayesh hai char ya panch ungliyon se khayen.
6. khane k baad bartan ko saaf Karen aur ungliyon ko chat lain, Huzoor sallaallahu alaihi wasallam ne ungliyon ko chat laine aur bartan (plait) ko saaf karne ka hukum diya aur farmaya k tum nahi jante k kis dane me barkat hai.
7. khane k baad Allah Tala ki Hamdo sana bayan Karen, Huzoor sallaallahu alaihi wasallam ne irshad farmaya , Allah Tala us bande se razi hote hai jo khaye phir us per Allah Tala ki tareef bayan Karen.(Muslim)
8. Khane k baad ki wo dua padhe jis me Allah ki Hamd-o-sana hai, “Alhamdulillahilladzi at 'amana wasaqana waj 'alna minal muslimin” Shukr hai Allah ka jis ne hum ko khilaya aur pilaya aur hum ko musalman banaya.(jame tirmizi)
1.Dono hath gattho tak dhona.2.Dastarkhwan bichana.3.Bismillah padhna. 4.Daye hath se khana (baye hath se har giz na khaye).5.Apne samne se khana Agar tashtari me kai qisam ki cheezen ho to jo pasnd ho wo khaye kisi ka hath badh raha ho to Apne hath ko rok le.6.Teen ungliyon se khana.7.Pyala tashtari Neez ungliyon ko chat kar saaf karna.8.Agar luqma gir jaye to utha kar khalena.9.khane me ayeb na lagana.10.Taik laga kar na khana.11.khane k baad ki dua padhna.12.pehle dastarkhwan uthana, phir khud uthna.13.kulli karna.14.dono hath dhona.15.khane se pehle bismillah bhool jaye to ye dua padhe (bismillahi awwalahu wa akhirahu).Allah k Naam k sath khane k shuru me bhi aur us k Aakhir me bhi.
(Sunan Abi Dawood)

0 comments |

इबादत की रात

Author: Admin Labels:: , ,


फ़िरदौस ख़ान
कल इबादत की रात थी... घरों और मस्जिदों में रातभर इबादत की गई... ये देखकर बहुत ख़ुशी हुई कि मासूम बच्चों ने भी इबादत की... जिन लोगों ने रात भर इबादत की और आज रोज़ा रखा, अल्लाह उनकी इबादत और रोज़े को क़ुबूल फ़रमाये, आमीन...
जिन लोगों (ग़ैर मुस्लिम भी) ने हमसे दुआओं को कहा था, हमने उनका नाम लेकर उनके लिए दुआ की, अल्लाह दुआओं को क़ुबूल फ़रमाये, आमीन...
दुनिया में हर तरफ़ ख़ुशहाली हो, चैन-अमन हो, हर चेहरे पर मुस्कराहट हो, आमीन
आज भी दिल्ली में मौसम सुहाना है, कल शाम और रात बारिश हुई है, काली घटायें छाई हुई हैं और ठंडी हवायें चल रही हैं...और रुक-रुक्कर बूंदें बरस रही हैं...
अल्लाह सबकी ज़िन्दगी का मौसम भी सुहाना करे, आमीन

0 comments |

नफ़िल रोज़ा

Author: Admin Labels:: ,

 नफ़िल रोज़े की फ़ज़ीलत


0 comments |

بسم الله الرحمن الرحيم

بسم الله الرحمن الرحيم

Allah hu Akbar

Allah hu Akbar
अपना ये बलॊग हम अपने पापा मरहूम सत्तार अहमद ख़ान को समर्पित करते हैं...
-फ़िरदौस ख़ान

This blog is devoted to my father Late Sattar Ahmad Khan...
-Firdaus Khan

इश्क़े-हक़ी़क़ी

इश्क़े-हक़ी़क़ी
फ़ना इतनी हो जाऊं
मैं तेरी ज़ात में या अल्लाह
जो मुझे देख ले
उसे तुझसे मुहब्बत हो जाए

List

Popular Posts

Followers

Follow by Email

Translate

Powered by Blogger.

Search This Blog

इस बलॊग में इस्तेमाल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं
banner 1 banner 2