फ़रिश्ते कौन हैं

Author: Admin Labels::

ख़ुदाय वाहदहु ला शरीक जो सब मख़लूक का ख़ालिक़ और मालिक है.
उसने इंसान को मिट्टी से अपनी इबादत और इताअत के लिए पैदा किया है. और फ़रिश्तों को उसने नूर से पैदा करके उन को हमारी नज़रों से छुपा दिया है. उनका मर्द या औरत होना कुछ नहीं बतलाता, उनको फ़रिश्ते कहते हैं. अल्लाह तआला ने उनको हर तरह की सूरत में बन जाने की क़ुदरत दी हैं. फ़रिश्ते चाहें, तो हवा बन जाएं, इंसान बन जाएं या किसी जानवर बन जाएं. वे किसी भी शक्ल में ख़ुद को ढाल सकते हैं.
इनके पर भी होते हैं, किसी के दो पर, किसी के तीन पर, किसी के चार पर.इनकी ख़ुराक अल्लाह तआला की याद और ताबेदारी करना है. तमाम ज़मीन-ओ-आसमान का इंतज़ाम इनके सपुर्द है.
वो कोई काम अल्लाह तआला के हुक्म के खिलाफ़ नही करते. इनमें यह चार फ़रिश्ते बड़ा रूतबा रखते हैं.
हज़रत जिबराईल (अलैहिस्सलाम)
हज़रत मीकाईल (अलैहिस्सलाम)
हज़रत इस्राफ़िल (अलैहिस्सलाम)
हज़रत इज़राईल (अलैहिस्सलाम)
हज़रत जिबराईल अल्लाह तआला के अहकाम और किताबें रसूलों और नबियों के पास लाते थे. बाज़ मौक़े पर अल्लाह तआला उन्हें रिज़्क़ पहुंचाने और बारिश वग़ैरह के कामों पर मुक़र्रर किया हैं. बहुत से फ़रिश्ते उनकी मातहती में काम करते हैं. कुछ बादलों और हवाओं, दरियाओं, तालाबों और नहरों के कारोबार में लगे हुए हैं.
हज़रत इस्राफ़िल सूर लिए खड़े हैं. जब क़यामत होगी वो सूर बजाएंगे.
हज़रत इज़राईल मलक-उल-मौत मख़लूक़ की जान निकलने के लिए मुक़र्रर हैं और बहुत से फ़रिश्ते उनकी मातहती में काम करते हैं. नेक और बद लोगों की जान निकलने वाले फ़रिश्ते अलग-अलग हैं. दो फ़रिश्ते इंसान के अच्छे और बुरे अमल लिखने वाले हैं. इन्हें किरमान कातेबीन कहते हैं.
बाज़ फ़रिश्ते इंसान को मुसीबत से बचाने के लिए मुक़र्रर हैं. ये अल्लाह तआला के हुक्म से हिफ़ाज़त करते हैं.
बाज़ फ़रिश्ते जन्नत और दोज़ख़ के इंतज़ामात के लिए मुक़र्रर हैं. बाज़ फ़रिश्ते हर वक़्त अल्लाह तआला की इबादत और याद में मशग़ूल रहते हैं.
बाज़ फ़रिश्ते दुनिया में काम करने आते हैं, उनकी सुबह व शाम बदली भी होती है. सुबह की नमाज़ के बाद रात में काम करने वाले फ़रिश्ते आसमान पर चले जाते हैं. उनकी जगह दिन में काम करने वाले फ़रिश्ते आ जाते हैं. ये फ़रिश्ते अस्र की नमाज़ के बाद चले जाते हैं.
बाज़ फ़रिश्ते दुनिया में फिरते हैं और जहां अल्लाह तआला का ज़िक्र होता हो, जैसे क़ुरआन मजीद पढ़ा जाता हो, या बुज़ुर्गों और आलिमों की सोहबत में दीन का ज़िक्र होता हो, ये वहां जमा होते हो जाते हैं.
फिर उनके शरीक होने की गवाही अल्लाह तआला के सामने देते हैं और यह सब बातें क़ुरआन व हदीस में मौजूद हैं.
पेशकश : वाजिद शेख़

0 comments |

क्या आप जानते हैं

Author: Admin Labels::

सवाल : पहले जुम्मा किसने क़ायम किया ?
जवाब : हज़रत असद बिन जुरारह ने
सवाल : क़यामत के दिन सबसे पहले लोगों के दरमियान किस चीज़ का फ़ैसला होगा ?
जवाब : ख़ून का
सवाल : सबसे पहले दुनिया की कौन सी नेमत उठाई जाएगी ?
जवाब : शहद
सवाल : इस्लाम में सबसे पहले मुफ़्ती कौन हुए ?
जवाब : हज़रत अबु बक़्र सिद्दीक़ रज़ियल्लाहु अन्हा
सवाल :- सबसे पहले बीस रकात तरावीह बा जमात किसने राइज़ की ?
जवाब : हज़रत उमर फ़ारूक़ आज़म रज़ियल्लाहु अन्हा ने
सवाल : इस्लाम में सबसे पहले राहे-ख़दा में अपनी तलवार किसने निकाली ?
जवाब :हज़रत ज़ुबैर बिन अव्वाम ने
सवाल : मक्का की सरज़मीं पर सबसे पहले बुलंद आवाज़ से कु़रान पाक किसने पढ़ा?
जवाब : हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसऊद ने
सवाल : इस्लाम में सबसे पहले शायर कौन हुए?
जवाब : हज़रत हस्सान बिन साबित
सवाल :. इस्लाम में सबसे पहले शहादत किसकी हुई ?
जवाब : अम्मार बिन यासर की मां समिय्या की
सवाल : सबसे पहले गेहूं की खेती किसने की?
जवाब : हज़रत आदम अलैहिस्सलाम ने
सवाल : सबसे पहले सर के बाल किसने मुंडवाये?
जवाब : हज़रत आदम अलैहिस्सलाम ने मुंडवाये और मुंडने वाले हज़रत जिब्राईल अमीन थे.
सवाल : सबसे पहले क़लम से किसने लिखा?
जवाब : हज़रत इदरीस अलैहिस्सलाम ने
सवाल : सबसे पहले चमड़े का जुता किसने बनाया ?
जवाब : हज़रत नुह अलैहिस्सलाम ने
सवाल : अरब में सबसे पहले कौन से नबी तशरीफ़ लाए ?
जवाब : हज़रत हुद अलैहिस्सलाम
सवाल : सबसे पहले आशुरा का रोज़ा किसने रखा ?
जवाब : हज़रत नुह अलैहिस्सलाम ने
सवाल : सबसे पहले ख़ुदा की राह में किसने जिहाद किया ?
जवाब : हज़रत इब्राहिम अलैहिस्सलाम ने
सवाल : सबसे पहले साबुन किसने ईजाद किया ?
जवाब : हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम ने
सवाल : सबसे पहले काग़ज़ किसने तैयार किया ?
जवाब : हज़रत यूसुफ़ अलैहिस्सलाम ने
सवाल : कयामत के दिन सबसे पहले शफ़ाअत कौन करेंगे ?
जवाब : मेरे आका सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम..
सवाल : सबसे पहले किस नबी की उम्मत जन्नत में दाख़िल होगी ?
जवाब : मेरे आक़ा हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की उम्मत
पेशकश : वाजिद शेख़

0 comments |

بسم الله الرحمن الرحيم

بسم الله الرحمن الرحيم

Allah hu Akbar

Allah hu Akbar
अपना ये बलॊग हम अपने पापा मरहूम सत्तार अहमद ख़ान को समर्पित करते हैं...
-फ़िरदौस ख़ान

This blog is devoted to my father Late Sattar Ahmad Khan...
-Firdaus Khan

इश्क़े-हक़ी़क़ी

इश्क़े-हक़ी़क़ी
फ़ना इतनी हो जाऊं
मैं तेरी ज़ात में या अल्लाह
जो मुझे देख ले
उसे तुझसे मुहब्बत हो जाए

List

Popular Posts

Followers

Follow by Email

Translate

Powered by Blogger.

Search This Blog

इस बलॊग में इस्तेमाल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं
banner 1 banner 2