67 सूर: अल-मुल्क

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 30 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. बड़ा बरकत वाला है वह, जिसके क़ब्ज़े में सारी बादशाही है और वह हर चीज़ पर क़ादिर है
2. जिसने मौत और ज़िन्दगी को पैदा किया, ताकि तुम्हें आज़माये कि तुम में से काम में कौन सबसे अच्छा है और वह ग़ालिब और बड़ा बख़्शने वाला है
3. जिसने ऊपर नीचे सात आसमान बनाए, तुम ख़ुदा की कायनात में कोई कसर नहीं देखोगे, नज़र उठाकर देखो, क्या कोई कसर नज़र आती है
4. फिर दोबारा नज़र उठाकर देखो, तो हर बार नज़र नाकाम और थक कर तेरी तरफ़ पलट आएगी
5. और हमने पहले वाले आसमान को तारों से सजाया और हमने उनको शैतानों को मारने वाला बनाया और हमने उनके लिए दहकती हुई आग का अज़ाब तैयार कर रखा है
6. और जो लोग अपने परवरदिगार को नहीं मानते, उनके लिए जहन्नुम का अज़ाब है और वह बहुत बुरा ठिकाना है
7. जब ये लोग इसमें डाले जाएंगे, तो उसकी बड़ी चीख़ सुनेंगे और वह जोश मार रही होगी
8. ऐसा लगेगा कि वह फट पड़ेगी, जब उसमें कोई गिरोह डाला जाएगा, तो जहन्नुम का दरोग़ा पूछेगा कि क्या तुम्हारे पास कोई ख़बरदार करने वाला पैग़म्बर नहीं आया था
9. वे कहेंगे कि हां, हमारे पास ख़बरदार करने वाला तो ज़रूर आया था, लेकिन हमने उसे झुठला दिया और कहा कि ख़ुदा ने तो कुछ नाज़िल ही नहीं किया, तुम तो बड़ी गुमराही में पड़े हो
10. और ये भी कहेंगे कि अगर उनकी बात सुनते या समझते तो आज दोज़ख़ियों में शामिल न होते
11. इस तरह वे अपने गुनाहों का इक़रार कर लेंगे, दोज़ख़ी ख़ुदा की रहमत से दूर रहेंगे
12. बेशक जो लोग अपने परवरदिगार से डरते हैं, उनके लिए मग़फ़िरत और बड़ा भारी अज्र है
13. तुम अपनी बात छुपाओ या उसे ज़ाहिर करो, वह तो दिलों में छुपी बातों तक को ख़ूब जानता है
14. जिसने पैदा किया वह तो बाख़बर है और हर छोटी से छोटी बात जानता है
15. वही तो है, जिसने ज़मीन को तुम्हारे लिए नरम कर दिया, उसके कंधों पर चलो फिरो और उसकी दी हुई रोज़ी खाओ
16. और फिर उसी की तरफ़ क़ब्र से उठकर जाना है, क्या तुम उससे बेख़ौफ़ हो, जो आसमान में हुकूमत करता है कि वह तुम्हें ज़मीन में दबा दे, फिर एकबारगी उलट-पलट करने लगे
17. या तुम इस बात से बेख़ौफ़ हो कि जो आसमान में हुकूमत करता है, वह तुम पर पत्थरों वाली आंधी चलाए, तुम्हें बहुत जल्द मालूम हो जाएगा कि मेरा ख़बरदार करना कैसा है
18. उन लोगों ने भी झुठलाया, जो उनसे पहले थे, तो देखो मेरी नाख़ुशी कैसी थी
19. क्या उन लोगों ने अपने सरों पर चिड़ियों को उड़ते नहीं देखा, जो परों को फैलाए रहती हैं और समेट लेती हैं कि ख़ुदा के सिवा इन्हें कोई रोके नहीं रह सकता, बेशक वह हर चीज़ को देख रहा है
20. भला ख़ुदा के सिवा ऐसा कौन है, जो तुम्हारी फ़ौज बनकर तुम्हारी मदद करे, काफ़िर तो धोखे में हैं, अगर ख़ुदा अपनी दी हुई रोज़ी रोक ले, तो कौन ऐसा है, जो तुम्हें रिज़्क़ दे
21. मगर ये काफ़िर तो सरकशी और नफ़रत के भंवर में फंसे हुए हैं, भला जो शख़्स औंधे मुंह के बल चले, वह ज़्यादा हिदायत याफ़्ता होगा
22. या वह शख़्स जो सीधी राह चल रहा हो, तुम कह दो कि ख़ुदा तो वही है, जिसने तुम्हें पैदा किया है
23. और तुम्हारे लिए कान, आंख और दिल बनाया, मगर तुम तो बहुत कम शुक्र अदा करते हो
24. कह दो कि वही तो है, जिसने तुम्हें ज़मीन में फैला दिया और उसी के सामने तुम जमा किए जाओगे
25. और काफ़िर कहते हैं कि अगर तुम सच्चे हो, तो ये वादा कब पूरा होगा
26. तुम कह दो कि इसका इल्म तो बस ख़ुदा ही को है और मैं तो सिर्फ़ अज़ाब से ख़बरदार करने वाला हूं
27. जब लोग उसे क़रीब से देख लेंगे, तो ख़ौफ़ से काफ़िरों के चेहरे बिगड़ जाएंगे और उनसे कहा जाएगा कि ये वही चीज़ है, जिसकी तुम मांग कर रहे थे
28. कह दो, क्या तुमने कभी सोचा है कि अगर ख़ुदा मुझे और मेरे साथियों को मार दे या हम पर रहम फ़रमाए, तो काफ़िरों को दर्दनाक अज़ाब से कौन पनाह देगा
29.  तुम कह दो कि ख़ुदा बड़ा रहम करने वाला है, जिस पर हम ईमान लाए हैं और हमने उसी पर भरोसा कर लिया है, तो बहुत जल्द ही तुम्हें मालूम हो जाएगा कि कौन खुली गुमराही में पड़ा है
30. कह दो, क्या तुमने कभी सोचा है कि अगर तुम्हारा पानी ज़मीन के अंदर चला जाए, तो कौन तुम्हारे लिए पानी का चश्मा बहाएगा
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

68 सूर: अल-क़लम

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 52 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. नून. क़लम और लिखने वाली चीज़ की क़सम है
2. तुम अपने परवरदिगार के करम के दीवाने नहीं हो
3. और तुम्हारे लिए यक़ीनन वह अज्र है, जो कभी ख़त्म नहीं होगा
4. और बेशक तुम्हारे अख़लाक बड़े आला दर्जे के हैं
5. बहुत जल्द तुम देखोगे और काफ़िर भी देख लेंगे
6. कि तुम में दीवाना कौन है
7. बेशक तुम्हारा परवरदिगार इनसे ख़ूब वाक़िफ़ है, जो उसकी राह से भटके हुए हैं और वही हिदायत याफ़्ता लोगों को भी ख़ूब जानता है
8. तुम झुठलाने वालों का कहना न मानना
9. वे लोग चाहते हैं कि अगर तुम नरमी अख़्तियार करो, तो वे भी नरम हो जाएं
10. और तुम ऐसे के कहने में मत आना, जो बहुत क़समें खाता हो और ज़लील हो
11. जो आला दर्जे का चुग़लख़ोर और बख़ील हो
12. हद से ज़्यादा गुनाहगार और बदमिज़ाज हो
13. इसके अलावा ज़ालिम और बदज़ात भी हो
14. और माल और बेटों वाला हो
15. जब उसके सामने हमारी आयतें पढ़ी जाती हैं, तो कहता है कि ये पहले के लोगों की कहानियां हैं
16. हम बहुत जल्द उसकी नाक पर दाग़ लगाएंगे
17. जिस तरह हमने बाग़ वालों का इम्तिहान लिया था, उसी तरह उनका इम्तिहान लेंगे, जब उन्होंने क़समें खा खाकर कहा कि सुबह होते हम उसका मेवा ज़रूर तोड़ देंगे
18. और वे इसमें छूट की कोई गुंजाइश नहीं रख रहे थे
19. ये लोग सो ही रहे थे कि तुम्हारे परवरदिगार की तरफ़ से गर्दिश का एक झोंका आया
20. और सारा बाग़ तबाह हो गया
21. सुबह होते ही उन्होंने एक दूसरे को आवाज़ दी
22. अगर तुम्हें फल तोड़ने हैं, तो बाग़ में सवेरे चलो
23. वे चुपके-चुपके बातें करते हुए चल पड़े
24. आज यहां तुम्हारे पास कोई फ़क़ीर न आने पाए
25. वे मोहताजों को फल न देने की ठाने हुए सवेरे ही जा पहुंचे
26. जब उन्होंने तबाह बाग़ देखा, तो कहने लगे कि हम लोग भटक गए
27. हम लोग बड़े बदनसीब हैं
28. उनमें जो सबसे अच्छा था कहने लगा- क्या मैंने तुमसे नहीं कहा था, तुम ख़ुदा की तस्बीह क्यों नहीं करते
29. वे बोले- बेशक हमारा परवरदिगार पाक है, बेशक हम ही क़ुसूरवार हैं
30. फिर एक-दूसरे को बुरा कहने लगे
31. उन्होंने अफ़सोस जताते हुए कहा कि बेशक हम ही ख़ुद सरकश थे
32. उम्मीद है कि हमारा परवरदिगार हमें इससे बेहतर बाग़ इनायत फ़रमाएगा, हम अपने परवरदिगार की तरफ़ रुजू करते हैं
33. अज़ाब ऐसा होता है और आख़िरत का अज़ाब तो इससे कहीं ज़्यादा होगा, काश ये लोग समझते
34. बेशक परहेज़गार लोग अपने परवरदिगार के पास ख़ुशहाल बाग़ों में रहेंगे
35. क्या हम फ़रमाबरदारों को नाफ़रमानों जैसा कर देंगे
36. हरगिज़ नहीं, तुम्हें क्या हो गया है, तुम कैसा फ़ैसला करते हो
37. क्या तुम्हारे पास कोई किताब है, जिसे तुम पढ़ते हो
38. कि जो चीज़ पसंद करोगे, तुम्हें वहां ज़रूर मिलेगी
39. या तुमने हमसे क़समें ले रखी हैं, जो क़यामत तक चलेंगी कि जो कुछ तुम चाहोगे, वह तुम्हें ज़रूर मिलेगा
40. उनसे पूछो कि उनमें से कौन इसकी ज़मानत लेता है
41. या उनके और भी साझीदार हैं, तो अगर ये लोग सच्चे हैं, तो अपने साझीदारों को सामने लाएं
42. जिस दिन पिंडली खोल दी जाएगी और काफ़िर लोग सजदे के लिए बुलाए जाएंगे, तो वे सजदा न कर सकेंगे
43. उनकी आंखें झुकी हुई होंगी, ज़िल्लत उन पर छाई हुई होगी, दुनिया में उन्हें उस वक़्त भी सजदे के लिए बुलाया जाता था, जब ये तंदुरुस्त थे
44. हमें उस कलाम के झुठलाने वाले स समझ लेने दो, हम उन्हें आहिस्ता-आहिस्ता इस तरह पकड़ेंगे कि उनको ख़बर भी न होगी
45. हम उन्हें मोहलत देते हैं, बेशक हमारी तदबीर मज़बूत है
46. क्या तुम उनसे कुछ सिला मांगते हो, कि वे तावान के बोझ से दबे जाते हैं
47. क्या उन्हें ग़ैब की ख़बर है कि वे लिख लिया करते हैं
48. तुम अपने परवरदिगार के हुक्म के इंतज़ार में सब्र करो और मछली का निवाला होने वाले यूनुस जैसे न होना, जब उन्होंने परेशान होकर अपने परवरदिगार को पुकारा था
49. अगर तुम्हारे परवरदिगार की मेहरबानी न होती, तो वह खुले मैदान में डाल दिए जाते और उनका बुरा हाल होता
50. उनके परवरदिगार ने उन्हें चुन लिया और नेक लोगों में शामिल कर दिया
51. और काफ़िर जब क़ुरआन को सुनते हैं, तो मालूम होता है कि ये लोग तुम्हें घूर-घूर कर राह से ज़रूर भटका देंगे
52. हालांकि ये क़ुरआन सारे जहान की नसीहत है
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

69 सूर: अल-हाक़का

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 52 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. सचमुच होने वाली
2. और सचमुच होने वाली क्या चीज़ है
3. और तुम्हें क्या मालूम कि सचमुच होने वाली क्या है
4. वही खड़खड़ा देने वाली जिसे आद और समूद ने झुठलाया
5. समूद तो तबाही से मार दिए गए
6. फिर आद बहुत तेज़ आंधी से मार दिए गए
7. ख़ुदा ने उसे सात रात और आठ दिन उन पर चलाया, तो वे खजूर के खोखले तने की तरह ढह गए
8. तू क्या इनमें से किसी को भी बाक़ी देखता है
9. और फ़िरऔन ने और उससे पहले लूत की क़ौम के लोगों और बर्बाद हुई बस्तियों में रहने वाले लोगों ने ये गुनाह किए
10. उन लोगों ने अपने परवरदिगार के रसूल की नाफ़रमानी की, तो ख़ुदा ने उन्हें सख़्त पकड़ में ले लिया
11. जब पानी चढ़ने लगा, तो हमने तुम्हें कश्ती पर सवार किया
12. ताकि हम उसे तुम्हारे लिए यादगार बनाएं और उसे याद रखने वाले कान सुनकर याद रखें
13. फिर सूर में फूंक मार दी जाएगी
14. और ज़मीन और आसमान उठाकर एक ही बार में रेज़ा-रेज़ा कर दिए जाएंगे, तो उस दिन क़यामत आ ही जाएगी
15. और आसमान फट जाएगा
16. उसका बंधन ढीला पड़ जाएगा और फ़रिश्ते उसके किनारे पर होंगे
17. और तुम्हारे परवरदिगार के अर्श को उस दिन आठ फ़रिश्ते अपने सरों पर उठाए हुए होंगे
18. उस दिन तुम ख़ुदा के सामने पेश किए जाओगे और तुम्हारी कोई छुपी बात छुपी नहीं रहेगी
19. जिसे आमाल नामा दाहिने हाथ में दिया जाएगा, तो वह कहेगा लीजिए मेरा आमाल नामा पढ़िए
20. मैं जानता था कि मुझे मेरा हिसाब ज़रूर मिलेगा
21. फिर वह ख़ुशहाल ज़िन्दगी जिएगा
22. बड़े आलीशान बाग़ में
23. जिसमें फलों के गुच्छे झुके होंगे
24. जो नेकियां तुमने की हैं, उसके बदले में मज़े से खाओ पियो
25. और जिसका आमाल नामा बायें हाथ में दिया जाएगा, तो वह कहेगा कि काश मेरा आमाल नामा न दिया जाता
26. और मुझे मालूम न होता कि मेरा हिसाब क्या है
27. काश ! मौत ने मुझे हमेशा के लिए ख़त्म कर दिया होता
28. मेरा माल मेरे कुछ भी काम न आया
29. मेरी सल्तनत ख़ाक में मिल गई
30. फिर हुक्म होगा कि इसे गिरफ़्तार करके तौक़ पहना दो
31. फिर इसे जहन्नुम में झोंक दो
32.  फिर एक जंज़ीर में इसे ख़ूब जकड़ दो, जो सत्तर गज़ लंबी है
33. क्योंकि ये न तो ख़ुदा पर ईमान लाता था और न ही मोहताज को खाना खिलाता था
34. आज न उसका कोई ग़मख़्वार है
35. और न पीप के सिवा उसके लिए कोई खाना है
36. जिसे गुनाहगारों के सिवा कोई नहीं खाएगा
37. मुझे उन चीज़ों की क़सम है
38. जो तुम्हें दिखाई देती हैं
39. और जो तुम्हें सुझाई नहीं देतीं कि बेशक ये क़ुरआन
40. एक मोअज़िज़ फ़रिश्ते का लाया हुआ पैग़ाम है
41. और ये किसी शायर की तुकबंदी नहीं, तुम लोग बहुत कम ईमान लाते हो
42. और न किसी काहिन की ख़्याली बात है, तुम लोग बहुत कम ग़ौर करते हो
43. सारे जहान के परवरदिगार का नाज़िल किया हुआ कलाम है
44. अगर रसूल हमारे बारे में कोई झूठ बात बना लाते
45. तो हम उनका दाहिना हाथ पकड़ लेते
46. फिर हम ज़रूर उनकी गर्दन उड़ा देते
47. तुम में से कोई भी हमें रोकने वाला न होता
48. ये तो परहेज़गारों के लिए नसीहत है
49. और हम ख़ूब जानते हैं कि तुम में से कुछ लोग इसके झुठलाने वाले हैं
50. और इसमें शक नहीं कि काफ़िर इसके लिए पछताएंगे
51. और इसमें शक नहीं कि ये यक़ीनन बरहक़ है
52. तुम अपने परवरदिगार की तस्बीह करो
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान 

0 comments |

70 सूर: अल-मारिज

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 44 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. एक फ़क़ीर ने काफ़िरों के लिए होकर रहने वाला अज़ाब मांगा
2.  जिसे कोई टाल नहीं सकता
3. जो दर्जों के मालिक ख़ुदा की तरफ़ से होने वाला है
4. फ़रिश्ते और जिबरील जिसकी तरफ़ चढ़ते हैं, उस दिन में, जिसकी मियाद पचास हज़ार साल है
5. तुम अच्छी तरह इन तकलीफ़ों को बर्दाश्त करते रहो
6. क़यामत उनकी निगाह में बहुत दूर है
7. और हमारी नज़र में नज़दीक है
8. उस दिन आसमान पिघले हुए तांबे जैसा हो जाएगा
9. और पहाड़ धुनी हुई रूई जैसे हो जाएंगे
10. लोग एक-दूसरे को देखते रहेंगे
11. कोई किसी को न पूछेगा, गुनाहगार चाहेंगे कि काश उस दिन के अज़ाब के बदले उसके बेटों
12. और उसकी बीवी और उसके भाई
13. और उसके कुनबे को, जिसमें वह रहता था
14. और जितने भी आदमी ज़मीन पर हैं, सबको ले ले और उसको छुटकारा दे दे
15. मगर ये हरगिज़ न होगा
16. जहन्नुम की वह भड़कती आग है कि खाल को उधेड़ कर रख देगी
17. और उन लोगों को अपनी तरफ़ बुलाती होगी
18. जिन्होंने दीन से पीठ फेरी और माल जमा किया
19. बेशक इंसान बहुत लालची पैदा हुआ है
20. जब उसे तकलीफ़ छू गई, तो घबरा गया
21. जब उसे ख़ुशहाली मिलती है, तो नाशुक्रा हो जाता है
22. मगर जो लोग नमाज़ पढ़ते हैं
23. अपनी नमाज़ें क़ायम रखते हैं
24. और उनके माल में
25. ज़रूरतमंदों के लिए एक हिस्सा होता है
26. और जो लोग फ़ैसले के दिन की तस्दीक करते हैं
27. और जो लोग अपने परवरदिगार के अज़ाब से डरते हैं
28. बेशक उन्हें परवरदिगार के अज़ाब से बेख़ौफ़ न होना चाहिए
29. जो लोग अपनी बीवियों और अपनी लौंडियों के अलावा औरों से अपनी शर्मगाहों की हिफ़ाज़त करते हैं
30. इन लोगों की हरगिज़ मलामत न की जाएगी
31. लेकिन जिन्होंने इसके अलावा कुछ और चाहा, तो ऐसे लोग हद से बढ़ जाने वाले हैं
32. और जो लोग अपनी अमानतों और अहदों का लिहाज़ रखते हैं
33. और अपनी गवाहियों पर क़ायम रहते हैं
34. और जो लोग अपनी नमाज़ों का ख़्याल रखते हैं
35. यही लोग जन्नत के बाग़ों में इज़्ज़त से रहेंगे
36. काफ़िरों को क्या हो गया है
37. तुम्हारे पास गिरोह के गिरोह दायें से बायें से दौड़े चले आ रहे हैं
38. क्या इनमें से हर शख़्स को उम्मीद है कि वह चैन से जन्नत में दाख़िल होगा
39. हरगिज़ नहीं, हमने उन्हें जिस गंदी चीज़ से पैदा किया, ये लोग जानते हैं
40. मैं पूरब और पश्चिम के परवरदिगार की क़सम खाता हूं कि हम ज़रूर इस बात की क़ुदरत रखते हैं
41. उनके बदले उनसे अच्छे लोग ले आएं और पिछड़ जाने वाले नहीं हैं
42. तुम उन्हें छोड़ दो कि वे फ़िज़ूल की बातों में पड़े रहें, यहां तक कि जिस दिन का वादा किया जाता है, वह दिन उनके सामने आ जाए
43. उसी दिन ये लोग क़ब्रों से निकल कर इस तरह दौड़ेंगे, मानो ये किसी परचम की तरफ़ दौड़े जा रहे हैं
44. शर्म से उनकी आंखें झुकी होंगी, उन पर ज़िल्लत छाई हुई होगी, ये वही दिन है, जिसका उनसे वादा किया जाता था
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

71 सूर: नूह

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 28 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. हमने नूह को उसकी क़ौम के पास भेजा कि अपनी क़ौम के लोगों को ख़बरदार करो, इससे पहले कि कोई अज़ाब आए
2. नूह ने कहा, मेरी क़ौम के लोगो ! मैं तुम्हें ख़बरदार करता हूं
3. तुम ख़ुदा की इबादत करो और उसी से डरो, और मेरी बात मानो
4. ख़ुदा तुम्हारे गुनाह बख़्श देगा और तुम्हें मुक़र्रर वक़्त (मौत तक) मोहलत देगा, बेशक जब ख़ुदा का मुक़र्रर किया हुआ वक़्त आ जाता है, तो पीछे नहीं हटाया जा सकता. काश कि तुम समझ सकते
5. जब लोगों ने नहीं माना, तो उन्होंने अर्ज़ की कि परवरदिगार में अपनी क़ौम को ईमान की तरफ़ बुलाता रहा
6. लेकिन वे मेरे बुलाने से और ज़्यादा गुरेज़ करते रहे
7. और जब मैंने उन्हें तौबा के लिए बुलाया, ताकि तू उन्हें बख़्श दे, तो उन्होंने अपने कानों में अंगुलियां दे लीं और ख़ुद को कपड़ों से ढक लिया, और अपनी ज़िद पर अड़ गए और ग़ुरूर किया
8. फिर मैंने उन्हें सरेआम ऐलान करके बुलाया
9.  और उन्हें चुपके-चुपके भी समझाया
10. और कहा कि अपने परवरदिगार से मग़फ़िरत की दुआ मांगो, बेशक वह बड़ा बख़्शने वाला है
11. तुम पर आसमान से मूसलाधार पानी बरसाएगा
12. माल और औलाद में तरक़्क़ी देगा, और तुम्हारे लिए बाग़ बनाएगा और नहरें जारी करेगा
13. तुम्हें क्या हो गया है कि तुम ख़ुदा की अज़मत का ज़रा भी ख़्याल नहीं करते
14. हालांकि उसी ने तुम्हें कई हालात में पैदा किया है
15. क्या तुमने ग़ौर नहीं किया कि ख़ुदा ने किस तरह सात आसमान बनाए
16. और उसी ने चांद को नूर और सूरज को रौशन चिराग़ बनाया
17. और ख़ुदा ने तुम्हें ज़मीन से बड़ा किया
18. फिर तुम्हें उसी में दोबारा ले जाएगा और क़यामत के दिन निकाल भी लेगा
19. और ख़ुदा ही ने ज़मीन को तुम्हारे लिए फ़र्श बनाया है
20. ताकि तुम उसके बड़े-बड़े फैले हुए रास्तों पर चलो, फिरो
21. नूह ने अर्ज़ की कि परवरदिगार इन लोगों ने मेरी नाफ़रमानी की और उस शख़्स के ताबेदार बन गए, जिसने उन्हें माल और औलाद में नुक़सान पहुंचाया
22. और उन्होंने मेरे साथ मक्कारियां कीं
23. और कहने लगे कि अपने माबूदों को हरगिज़ न छोड़ना, न वद को और न सुआ को और न यगूस, यऊक़ और नस्र को छोड़ना
24. और उन्होंने बहुत लोगों को गुमराह किया और तू उन ज़ालिमों की गुमराही को और बढ़ा दे
25.  वे अपने गुनाहों की वजह से पहले तो डुबोये गए, फिर जहन्नुम में झोंके गए, तो उन्होंने ख़ुदा के सिवा किसी को अपना मददगार न पाया
26. और नूह ने अर्ज़ की कि परवरदिगार ज़मीन पर बसने वाले काफ़िरों में से किसी को न छोड़
27. क्योंकि अगर तू उन्हें छोड़ देगा, तो ये तेरे बन्दों को गुमराह करेंगे और उनकी औलाद भी गुनाहगार और काफ़िर होगी
28. परवरदिगार मुझे और मेरे मां बाप और जो मोमिन मेरे घर में आए, उन्हें और तमाम ईमानदार मर्दों और औरतों को बख़्श दे, और इन ज़ालिमों की तबाही को और ज़्यादा बढ़ा दे
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

72 सूर: अल-जिन्न

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 28 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. लोगों से कह दो कि मेरे पास वही आई है कि जिन्नात की एक जमात ने क़ुरआन को सुना और कहने लगे कि हमने क़ुरआन सुना है
2. जो भलाई की राह दिखाता है, हम उस पर ईमान ले आए और अब किसी को अपने परवरदिगार का शरीक नहीं बनाएंगे
3. ये हमारे परवरदिगार की बहुत बड़ी शान है कि उसने न किसी को बीवी बनाया और न बेटा-बेटी
4.  और ये कि हम में से कुछ बेवक़ूफ़ लोग ख़ुदा के बारे में बेतुकी बातें करते हैं
5. हमारा ख़्याल ये था कि इंसान और जिन्नात ख़ुदा के बारे में झूठी बात नहीं बोल सकते
6. इंसानों में कितने ही ऐसे लोग थे, जो जिन्नात में से कितने ही मर्दों की पनाह मांगा करते थे और इससे उनकी सरकशी और बढ़ गई
7. और जैसा तुम्हारा ख़्याल है, वैसा ही उनका भी गुमान है कि ख़ुदा हरगिज़ दोबारा किसी को ज़िन्दा नहीं करेगा
8. हमने आसमान को टटोला, तो उसे सख़्त पहरेदारी और शोलों से भरा हुआ पाया
9. और ये कि पहले हम वहां बहुत सी जगह सुनने के लिए बैठा करते थे, मगर अब कोई सुनना चाहे, तो अपने लिए शोले तैयार पाएगा
10. और ये हम नहीं जानते कि उन लोगों के साथ ज़मीन पर बुराई है या उनके परवरदिगार ने उनकी भलाई का इरादा किया है
11. और ये कि हम में से कुछ लोग तो नेक हैं, कुछ और तरह के हैं, हम लोगों के कई तरह के फ़िरक़े हैं
12. और ये कि हम समझते हैं कि हम ज़मीन में रहकर ख़ुदा को हरगिज़ हरा नहीं सकते और न ही भाग कर उसको तंग कर सकते हैं
13. और ये जब हमने हिदायत सुनी, तो उस पर ईमान लाए, जो शख़्स अपने परवरदिगार पर ईमान लाएगा, तो उसे न नुक़सान का ख़ौफ़ है और न ज़ुल्म का
14. और ये कि हम में से कुछ लोग तो फ़रमाबरदार हैं और कुछ लोग नाफ़रमान, तो जो लोग फ़रमाबरदार हैं, वे सीधी राह पर चलें और उसी पर रहें
15. नाफ़रमान तो जहन्नुम का ईंधन बनेंगे
16. अगर ये लोग सीधी राह पर रहे, तो हम ज़रूर उन्हें बहुत से पानी से सेराब करते रहेंगे
17. ताकि उससे उनकी आज़माइश करें और जो शख़्स अपने परवरदिगार की याद से मुंह मोड़ेगा, तो उसे सख़्त अज़ाब में झोंक देगा
18. और ये कि मस्जिदें ख़ास ख़ुदा के लिए हैं, इसलिए ख़ुदा के साथ किसी की इबादत न करना
19. और ये कि जब ख़ुदा का बन्दा उसकी इबादत के लिए खड़ा होता है, तो लोग उसके गिर्द हुजूम बनाकर गिर पड़ते हैं
20. कह दो कि मैं अपने परवरदिगार की इबादत करता हूं और उसका किसी को शरीक नहीं बनाता
21. कह दो कि मैं तुम्हारे हक़ में न बुराई का अख़्तियार रखता हूं और न भलाई का
22. कह दो कि मुझे ख़ुदा के अज़ाब से कोई पनाह नहीं दे सकता और न मैं उसके सिवा कहीं पनाह की जगह देखता हूं
23. ख़ुदा की तरफ़ से उसके पैग़ाम पहुंचाने के सिवा कुछ नहीं कर सकता, और जिसने ख़ुदा और उसके रसूल की नाफ़रमानी की, तो उसके लिए यक़ीनन जहन्नुम की आग है, जिसमें वह हमेशा रहेगा
24. यहां तक कि जब ये लोग उन चीज़ों को देख लेंगे, जिनका उनसे वादा किया जाता है, तो उन्हें मालूम हो जाएगा कि किसके मददगार कम और किसकी तादाद कम है
25. कह दो कि मैं नहीं जानता कि जिस दिन का तुमसे वादा किया जाता है, वह क़रीब या मेरे परवरदिगार ने उसके लिए कोई मुद्दत तय कर रखी है
26. वही ग़ैब की है और वह अपनी ग़ैब की बातें किसी पर ज़ाहिर नहीं करता
27. मगर जिस पैग़म्बर को पसंद फ़रमाए, तो उसके आगे और पीछे निगेहबान फ़रिश्ते तैनात कर देता है
28. ताकि देख ले कि उन्होंने अपने परवरदिगार के पैग़ाम पहुंचा दिए और जो कुछ उनके पास है, उसे घेरे हुए हैं और उसने हर चीज़ को गिन रखा है
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

73 सूर: अल-मुज़म्मिल

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 20 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. ऐ चादर ओढ़ने वाले रसूल
2.  रात में उठो और कुछ देर नमाज़ पढ़ो
3. थोड़ी रात, आधी रात या इससे भी कुछ कम कर दो या कुछ बढ़ा दो
4. और क़ुरआन को बाक़ायदा ठहर-ठहर कर पढ़ो
5. हम बहुत जल्द तुम पर एक हुक्म नाज़िल करेंगे, इसमें शक नहीं कि रात को उठना
6. नफ़्स को पामाल करना और ये इबादत का वक़्त है
7. दिन में तुम्हारे बहुत से काम हैं
8. तुम अपने परवरदिगार के नाम का ज़िक्र करो और सबसे टूटकर उसी के हो जाओ
9. वही पूरब और पश्चिम का मालिक है, उसके सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं, तुम उसी की इबादत करो
10. जो लोग बकवास करते हैं, उस पर सब्र करो और उनसे अलग रहो
11. तुम मुझे झुठलाने वाले दौलतमंद लोगों को छोड़ दो और उन्हें थोड़ी मोहलत दो
12. बेशक हमारे पास ज़ंजीरें भी हैं और जलाने वाली आग भी
13. और गले में फंसने वाला खाना भी और दुख देने वाला अज़ाब भी
14. जिस दिन ज़मीन और पहाड़ कांप उठेंगे और पहाड़ रेत का ढेर होकर बिखर जाएंगे
15. हमने तुम्हारे पास एक रसूल (मुहम्मद) तुम पर गवाह बनाकर भेजा है, जैसे फ़िरऔन के पास एक रसूल (मूसा) को भेजा था
16. फ़िरऔन ने उस रसूल की नाफ़रमानी की, तो हमने उसको बहुत सख़्त पकड़ा
17. अगर तुम भी न मानोगे, तो अज़ाब के दिन से कैसे बचोगे, जो बच्चों को बूढ़ा बना देगा
18. जिस दिन आसमान फट जाएगा, उसका ये वादा पूरा होकर रहेगा
19. बेशक ये नसीहत है, जो शख़्स चाहे अपने परवरदिगार की राह अख़्तियार करे
20. तुम्हारा परवरदिगार चाहता है कि तुम और तुम्हारे साथ कुछ लोग कभी दो तिहाई रात के क़रीब और कभी आधी रात और कभी तिहाई रात नमाज़ में खड़े हों, और ख़ुदा ही रात और दिन का अच्छी तरह अंदाज़ा कर सकता है, उसे मालूम है कि तुम लोग उस पर पूरी तरह से हावी नहीं हो सकते, तो उसने तुम पर मेहरबानी की, तो जितना आसानी से हो सके, उतना क़ुरआन पढ़ लिया करो, और वह जानता है कि बहुत जल्द तुम में से कुछ बीमार हो जाएंगे और कुछ रोज़ी की तलाश में ज़मीन पर सफ़र करेंगे, और कुछ ख़ुदा की राह में जेहाद करेंगे, तो जितना आसानी से हो सके तुम पढ़ लिया करो, और नमाज़ पाबंदी से पढ़ो और ज़कात देते रहो, ख़ुदा को अच्छा क़र्ज़ दो और जो नेक आमाल ख़ुदा के सामने पेश करोगे, उसका बेहतर सिला पाओगे, ख़ुदा से मग़फ़िरत की दुआ करते रहो, बेशक ख़ुदा बड़ा बख़्शने वाला और मेहरबान है
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

74 सूर: अल-मुदस्सिर

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 56 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. ऐ कपड़ा ओढ़ने वाले उठो
2. और लोगों को अज़ाब से ख़बरदार करो
3. और अपने परवरदिगार की बड़ाई करो
4. अपने कपड़े पाक रखो
5. गंदगी से दूर रहो
6. और इसी तरह अहसान न करो कि ज़्यादा की चाह रखो
7. और अपने परवरदिगार के लिए सब्र करो
8. फिर जब सूर फूंका जाएगा
9. वह दिन काफ़िरों के लिए सख़्त होगा
10. आसान नहीं होगा
11. मुझे और उस शख़्स को छोड़ दो, जिसे मैंने अकेला पैदा किया
12. और उसे बहुत सा माल दिया
13. और नज़र के सामने रहने वाले बेटे दिए
14. और उसके लिए ज़िन्दगी की राह आसान की
15. फिर वह चाहता है कि मैं उसे और ज़्यादा दूं
16. ये हरगिज़ न होगा, ये तो मेरी आयतों का दुश्मन था
17. मैं जल्द ही उसे सख़्त अज़ाब में डाल दूंगा
18. उसने फ़िक की और ये अटकल लगाई
19. तो ये मार डाला जाए
20. उसने क्यों अटकल लगाई
21. फिर ग़ौर किया
22. फिर त्योरी चढ़ाई और मुंह बना लिया
23. फिर पीठ फेरी और अकड़ कर बैठ गया
24. फिर कहने लगा कि ये बस जादू है, जो पहले से चला आ रहा है
25. ये तो बस इंसान का कलाम है
26. मैं उसे जल्द ही जहन्नुम में झोंक दूंगा
27. और तुम क्या जानो कि जहन्नुम क्या है
28. वह न बाक़ी रखेगी, न छोड़ेगी
29. और जिस्म को जलाकर स्याह कर देगी
30. उस पर उन्नीस फ़रिश्ते तैनात हैं
31. हमने जहन्नुम का निगेहबान फ़रिश्तों को बनाया है और उनका ये शुमार भी काफ़िरों की आज़माइश के लिए है, ताकि अहले-किताब यक़ीन कर ले और मोमिनों का ईमान और ज़्यादा पुख़्ता हो, और अहले-किताब और मोमिनीन किसी तरह का शक न करें, और जिन लोगों के दिल में मर्ज़ है, वह और काफ़िर लोग कह बैठे कि इसके बयान करने से ख़ुदा का क्या मतलब है, यूं ख़ुदा जिसे चाहता है गुमराही में छोड़ देता है और जिसे चाहता है हिदायत देता है, और तुम्हारे परवरदिगार के लशकरों को उसके सिवा कोई नहीं जानता और ये तो इंसानों के लिए बस नसीहत है
32. चांद की क़सम
33.और रात की जब वह जाने लगे
34. और सुबह की जब रौशन हो जाए
35. वह जहन्नुम भी एक बहुत बड़ी आफ़त है
36. लोगों को ख़ौफ़ज़दा करने वाली है
37. तुम में से उसके लिए, जो आगे बढ़ना या पीछे हटना चाहे
38. हर शख़्स अपने आमाल के बदले गिरवी है, जो उसने कमाए हैं
39. दाहिने हाथ में आमाल नामे लेने वाले
40. जन्नत के बाग़ों में गुनाहगारों से पूछताछ कर रहे होंगे
41. आख़िर तुम्हें दोज़ख़ में कौन सी चीज़ घसीट लाई
42. वे लोग कहेंगे
43. हम न तो नमाज़ पढ़ा करते थे
44. और न मोहताजों को खाना खिलाते थे
45. और अहले-बातिल के साथ हम भी फ़िज़ूल बहस में लगे रहते थे
46. और फ़ैसले के दिन को झुठलाया करते थे
47. यहां तक कि हमें मौत आ गई
48. उस वक़्त उनकी सिफ़ारिश करने वालों की सिफ़ारिश काम न आएगी
49. और उन्हें क्या हो गया कि नसीहत से मुंह मोड़े हुए हैं
50. मानो वे वहशी गधे हैं
51. जो शेर से डर कर भागते हैं
52. असल ये है कि उनमें से हर शख़्स चाहता है कि उसे खुली हुई आसमानी किताबें दी जाएं
53. ये हरगिज़ न होगा, बल्कि ये तो आख़िरत ही से नहीं डरते
54. हां, बेशक ये क़ुरआन नसीहत है
55. जो चाहे, उसे याद रखे
56. और ख़ुदा की मर्ज़ी के बिना ये लोग याद रखने वाले नहीं हैं, वह ख़ौफ़ पैदा करने और बख़्शने वाला है
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

75 सूर: अल- क़आमह

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 40 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. मैं क़यामत के दिन की क़सम खाता हूं
2. मलामत करने वाली रूह की क़सम खाता हूं कि तुम सब दोबारा ज़रूर ज़िन्दा किए जाओगे
3. क्या इंसान ये सोचता है कि हम उसकी हड्डियों को जमा नहीं करेंगे
4. हम इस पर क़ादिर हैं कि उसका पोर-पोर ठीक करें
5. मगर इंसान ये चाहता है कि आगे भी बुराई करता रहे
6. पूछता है कि क़यामत का दिन कब होगा
7. जब आंखें चकाचौंध हो जाएंगी
8. और चांद को गहन लग जाएगा
9. सूरज और चांद इकट्ठा किए जाएंगे
10. उस दिन इंसान कहेगा कि भागकर कहां जाऊं
11. यक़ीन जानो कहीं पनाह नहीं
12. उस दिन तुम्हारे परवरदिगार ही के पास पनाह है
13. उस दिन इंसान को वह सब बता दिया जाएगा, जो उसने आगे-पीछे किया है
14. बल्कि इंसान ख़ुद अपना गवाह है
15. हालांकि वह अपने गुनाहों के लिए बहाने करता रहे
16. वही के जल्द याद करने के लिए अपनी ज़बान को हरकत न दो
17. उसे जमा कर देना और पढ़वा देना, तो यक़ीनी हमारे ज़िम्मे है
18. जब हम उसे (जिबरील की ज़बानी) पढ़ें, तो तुम भी सुनने के बाद इसी तरह पढ़ा करो
19. फिर उसे समझा देना हमारे ज़िम्मे है
20. मगर सच तो ये है कि तुम लोग दुनिया को दोस्त रखते हो
21. और आख़िरत को भूल बैठे हो
22. उस दिन बहुत से चेहरे तरो ताज़ा और ख़ुश होंगे
23. अपने परवरदिगार को देख रहे होंगे
24. और बहुत से चेहरे उदास होंगे
25. समझ रहे होंगे कि उन पर मुसीबत आने वाली है
26. सुन लो, जब जान गले तक आ पहुंचेगी
27. और कहा जाएगा कि कोई झाड़ फूंक करने वाला है
28. और मरने वाले ने समझा कि अब जुदाई का वक़्त है
29. और मौत की तकलीफ़ से पिंडली से पिंडली लिपट जाएगी
30. उन दिन तुम्हें अपने परवरदिगार की बारगाह में चलना है
31. न उसने सच को माना और न नमाज़ अदा की
32. लेकिन झुठलाया और ईमान से मुंह फेरा
33. अपने घर की तरफ़ इतराता हुआ चला
34. अफ़सोस है तुझ पर, फिर अफ़सोस है तुझ पर
35. तुझ पर अफ़सोस है
36. क्या इंसान ये समझता है वह यूं ही छोड़ दिया जाएगा
37. क्या वह एक नुत्फ़े की बूंद न था, तो रहम में डाली जाती है
38. फिर वह लोथड़ा हुआ, फिर ख़ुदा ने उसे बनाया
39. फिर उसे दुरुस्त किया और उसकी दो क़िस्में बनाईं मर्द और औरत
40. क्या इस पर क़ादिर नहीं कि मुर्दों को ज़िन्दा कर दे
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान 

0 comments |

76 सूर: अद-दहर

Author: Admin Labels::

यह सूर: अल इंसान के नाम से भी जानी जाती है
मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 31 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. बेशक इंसान पर ऐसा वक़्त भी गुज़रा है कि वह क़ाबिले-ज़िक्र न था
2. हमने इंसान को मख़लूत नुत्फ़े से पैदा किया, उसे उलटते-पलटते रहे, फिर हमने उसे सुनने और देखने वाला बना दिया
3. हमने उसे राह दिखाई, अब चाहे वह शुक्रगुज़ार बने या नाशुक्रा बने
4. हमने काफ़िरों के लिए ज़ंजीरें, तौक और दहकती हुई आग तैयार कर रखी है
5. बेशक नेक लोग शराब के जाम पिएंगे, जिसमें काफ़ूर मिली हुई होगी
6. ये एक चश्मा है, जिसमें ख़ुदा के बन्दे पिएंगे और जहां चाहेंगे, बहा ले जाएंगे
7. ये वे लोग हैं, जो मन्नत पूरी करते हैं और सख़्ती वाले दिन से डरते हैं
8. और उसकी मुहब्बत में मोहताज, यतीम और क़ैदी को खाना खिलाते हैं
9. हम तुम्हें सिर्फ़ ख़ुदा की ख़ुशी के लिए खाना खिलाते हैं, हम तुमसे न बदला चाहते हैं और न ही शुक्रगुज़ारी
10. हमें अपने परवरदिगार से उस दिन का ख़ौफ़ है, जब मुंह बन जाएंगे और चेहरे पर हवाइयां उड़ती होंगी
11. ख़ुदा उस दिन की तकलीफ़ से बचा लेगा और उन्हें ताज़गी और ख़ुशहाली अता फ़रमाएगा
12. और उनके सब्र के बदले बाग़ और रेशमी लिबास अता फ़रमाएगा
13. उसमें वे तख़्तों पर तकिये लगाए बैठे होंगे, वहां न सूरज की कड़ी धूप होगी और न शिद्दत की सर्दी
14. उन पर घने दरख़्तों के साये होंगे और मेवों के गुच्छे उनके बहुत क़रीब होंगे, उनके अख़्तियार में होंगे
15. उनके पास चांदी के साग़र और शीशे के गिलास होंगे
16. और शीशे भी चांदी के होंगे, जो तरतीब से रखे होंगे
17. वहां उन्हें ऐसी शराब पिलाई जाएगी, जिसमें सोंठ का पानी मिला होगा
18. ये जन्नत में एक चश्मा है, जिसका नाम सलसबील है
19. और उनकी ख़िदमत में हमेशा नौजवान रहने वाले लड़के चक्कर लगाते होंगे, जब तुम उन्हें देखोगे, तो समझोगे कि बिखरे हुए मोती हैं
20. और जब तुम निगाह उठाओगे, तो तुम हर तरह की नेमत और अज़ीमुश शान सल्तनत देखोगे
21. उनके ऊपर हरे बारीक और गाढ़े रेशम की पोशाक होगी और उन्हें चांदी के कंगन पहनाए जाएंगे और उनका परवरदिगार उन्हें पाकीज़ा शराब पिलाएगा
22. यक़ीनी ये तुम्हारे आमाल का सिला होगा और तुम्हारी कोशिश क़ाबिले-क़द्र है
23. हमने तुम पर क़ुरआन को रफ़्ता-रफ़्ता नाज़िल किया
24. तुम अपने परवरदिगार के हुक्म के इंतज़ार में सब्र किए रहो और उन लोगों में से गुनाहगार और नाशुक्रे लोगों की पैरवी न करना
25. सुबह शाम अपने परवरदिगार का नाम लेते रहो
26. और कुछ रात बीतने पर उसको सजदा करो और देर रात उसकी तस्बीह करते रहो
27. ये लोग यक़ीनन दुनिया को पसंद करते हैं और एक सख़्त दिन को अपने पीछे छोड़ रहे हैं
28. हमने उन्हें पैदा किया, उनके जोड़-बंद मज़बूत बनाए और हम चाहें तो उनके बदले उन्हीं के जैसे लोग ले आएं
29. बेशक ये क़ुरआन सरासर नसीहत है, तो जो शख़्स चाहे अपने परवरदिगार की राह ले
30. और जब तक ख़ुदा न चाहे, तुम कुछ भी नहीं चाह सकते, बेशक ख़ुदा सब जानने वाला है
31. जिसे चाहे अपनी रहमत में दाख़िल कर ले और ज़ालिमों के लिए दर्दनाक अज़ाब तैयार कर रखा है
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

2 comments |

हज़रत ज़ू-उल-नून मिस्री

Author: Admin Labels:: , , , ,

फ़िरदौस ख़ान
प्रसिध्द सूफ़ी संत ज़ू-उल-नून मिस्र के रहने वाले थे. इसलिए उनका नाम ज़ू-उल-नून मिस्री पड़ा. लोग उन्हें नास्तिक समझते थे. मगर वे अल्लाह के सच्चे बंदे थे. उनका जीवन त्याग, भक्ति और सद्भावना का प्रतीक है. एक बार की बात है कि वे किश्ती में यात्रा कर रहे थे. इसी दौरान एक व्यापारी का क़ीमती मोती खो गया. किश्ती में सवार लोगों ने ज़ू-उल-नून मिस्री पर मोती की चोरी का संदेह जताते हुए उन्हें पीटना शुरू कर दिया. ज़ू-उल-नून मिस्री ने अल्लाह से दुआ की कि वह उनकी मदद करे, क्योंकि वे बेगुनाह हैं. तभी लोगों ने देखा कि हज़ारों मछलियां मुंह में एक-एक मोती लेकर सामने आ गईं. उन्होंने एक मोती लेकर व्यापारी को दे दिया. व्यापारी और उन्हें मारने वाले लोगों ने उनसे माफ़ी मांगी. इस वाक़िये के बाद उनकी ख्याति दूर-दूर तक फैल गई.

इस्लाम में ग़ैर मुस्लिमों के साथ अच्छा व्यवहार करने को कहा गया है. इस्लाम में यह भी कहा गया है कि जो मुसलमान ग़ैर मुस्लिमों के साथ दुर्व्यवहार करते हैं, अल्लाह उनको पसंद नहीं करता. एक बार ज़ू-उल-नून मिस्री को भी एक यहूदी पर इसी तरह की एक टिप्पणी करने की वजह से अल्लाह से फटकार खानी पड़ी थी. हुआ यूं कि ज़ू-उल-नून मिस्री ने देखा कि बर्फ़ पड़ने के मौसम में एक यहूदी बर्फ़ की चादर के ऊपर पक्षियों के लिए दाने डाल रहा है. इस पर ज़ू-उल-नून मिस्री ने पूछा कि वह क्या कर रहा है? यहूदी ने जवाब दिया कि वह ईश्वर को प्रसन्न करने के लिए पक्षियों को दाने डाल रहा है, क्योंकि बर्फ़ के कारण पक्षियों को दाने नहीं मिले होंगे और वे भूखे होंगे. मुसलमान होने के अभिमान में चूर ज़ू-उल-नून मिस्री ने कहा कि अल्लाह ग़ैर मुसलमानों के दाने डालने से ख़ुश नहीं होता. यहूदी ने जवाब दिया कि मेरा ईश्वर मुझे देख रहा है. बस, मेरे लिए यही काफ़ी है. इसके बाद हज के दिनों में ज़ू-उल-नून मिस्री ने देखा कि यहूदी बड़े उत्साह के साथ काबे की परिक्रमा कर रहा है. यह देखकर उनसे रहा नहीं गया और उन्होंने अल्लाह से कहा कि उसने एक ग़ैर मुस्लिम को छोटे-से काम का इतना बड़ा तोहफ़ा क्यों दिया है. इस पर उन्हें आकाशवाणी सुनाई दी कि अल्लाह के लिए सभी मनुष्य समान हैं. यह सुनकर ज़ू-उल-नून मिस्री को अपनी ग़लती का अहसास हुआ और उन्होंने अल्लाह और उस यहूदी से माफ़ी मांगी.

एक बार की बात है कि ज़ू-उल-नून मिस्री एक जंगल से गुज़र रहे थे. उन्होंने देखा कि एक पेड़ से एक अंधा पक्षी उतरा. ज़ू-उल-नून मिस्री सोच ही रहे थे कि यह बेचारा किस तरह अपना पेट भरता होगा. इतने में उस पक्षी ने ज़मीन को खोदना शुरू किया. ज़मीन में से दो प्यालियां निकलीं. सोने की प्याली में तिल थे और चांदी की प्याली में गुलाब जल था. उसने तिल खाए और गुलाब जल पिया. पेट भरने के बाद वह फिर से अपने पेड़ पर जाकर बैठ गया. यह माजरा देखकर ज़ू-उल-नून मिस्री को अल्लाह पर दृढ़ विश्वास हो गया. उन्होंने सोचा कि जिसे अल्लाह पर यक़ीन है, उसे किसी भी चीज़ के लिए फ़िक्र करने की कोई ज़रूरत नहीं है. वहां से वह जंगल में घूमने की गर्ज़ से आगे बढ़ गए, जहां उनके कुछ पुराने दोस्त मिल गए. घूमते-घूमते उन लोगों को जंगल में एक ख़ज़ाना मिला, जिसके ऊपर एक तख़्ती लगी थी. इस तख़्ती पर अल्लाह का नाम लिखा था. उनके दोस्तों ने ख़ज़ाना आपस में बांट लिया, लेकिन ज़ू-उल-नून मिस्री ने ख़ज़ाने की तरफ़ देखा तक नहीं और अल्लाह का नाम लिखी तख़्ती उठा ली. उन्होंने अदब से अल्लाह के नाम को चूमा, सिर और आंखों से लगाया. उसी रात उन्हें ख़्वाब में बशारत हुई कि- ''ऐ ज़ू-उल-नून मिस्री तूने अल्लाह के नाम की इज़्ज़त की. दौलत के बजाय अल्लाह के नाम को पसंद किया. इसके बदल में अल्लाह ने तेरे लिए इल्म और हिकमत के दरवाज़े खोल दिए हैं.''

ज़ू-उल-नून मिस्री लोगों को सादगी से जीवन जीने का उपदेश देते थे. वे कहते थे कि व्यक्ति को मेहनत की कमाई से जो भी मिले, उसी में संतुष्ट रहना चाहिए. एक बार की बात है कि ज़ू-उल-नून मिस्री के एक शिष्य को विरासत में एक लाख दीनार मिले, तो उसने उन्हें ख़र्च करने का फ़ैसला किया. मगर ज़ू-उल-नून मिस्री ने उसके बालिग़ होने तक उसे ख़र्च करने से मना कर दिया. बालिग़ होने पर शिष्य ने सभी दीनार ज़रूरतमंदों में बांट दिए. एक दिन ज़ू-उल-नून मिस्री को पैसों की ज़रूरत पड़ी, तो शिष्य को दीनार बांटने का अफ़सोस हुआ. इस पर ज़ू-उल-नून मिस्री ने मिट्टी की तीन गोलियां बनाकर मुट्ठी में बंद कीं. मुट्ठी खोली, तो वे बेशक़ीमती रत्न बन चुकी थीं. उन्होंने रत्नों को पानी में फेंक दिया और अपने शिष्य को नसीहत की कि फ़क़ीरों को दौलत से दूर ही रहना चाहिए.

लोग उन्हें धर्म-भ्रष्ट समझते थे. उन्होंने ख़लीफ़ा से ज़ू-उल-नून मिस्री की शिकायत की. ख़लीफ़ा ने उन्हें बुलाया, तो सिपाहियों ने उनके हाथों और पैरों में लोहे की बेड़ियां डालकर उन्हें दरबार में पेश किया. ख़लीफ़ा ने उन्हें कारागार में डलवा दिया. वे चालीस दिन तक क़ैद रहे. उनकी बहन प्रतिदिन उनके लिए रोटी लेकर आती थी. जब वे कारागार से आज़ाद हुए, तो उनकी बहन ने देखा कि सारी रोटियां वैसे ही रखी हुई हैं. ज़ू-उल-नून मिस्री ने एक भी रोटी नहीं खाई. बहन ने वजह पूछी, तो उन्होंने बताया कि दरोग़ा दुष्ट प्रवृत्ति का व्यक्ति है. वे उसके हाथ से छूकर आई रोटियां भला कैसे खा सकते हैं? क़ैद से आज़ाद होकर जब वे ख़लीफ़ा के पास गए, तो उसने कई सवाल किए. उनके वाजिब जवाब सुनकर ख़लीफ़ा बहुत ख़ुश हुआ और उसने ज़ू-उल-नून मिस्री को सम्मान के साथ वापस मिस्र भेज दिया.

मिस्र के लोग उनके साथ अच्छा बर्ताव नहीं करते थे. इसके बावजूद ज़ू-उल-नून मिस्री के मन में किसी के प्रति कोई दुर्भावना नहीं थी. वे कहते थे कि वे तो हमेशा अल्लाह में की मुहब्बत और उसकी इबादत में लीन रहते हैं. इसलिए किसी और के बारे में कुछ भी सोचने का उनके पास ज़रा भी समय नहीं है. कहते हैं, जब उनका इंतक़ाल हुआ और लोगों ने जनाज़े की नमाज़ पढ़ी, तो उनकी एक अंगुली ऊपर को उठ गई, जिस तरह नमाज़ पढ़ने के दौरा न एक आयत पढ़ने पर अंगुली उठाते हैं. लोगों ने जब यह देखा, तो उन्हें बहुत हैरानी हुई. उन्होंने अंगुली को सीधा करने की बहुत कोशिश की, मगर वह सीधी नहीं हुई. जब मिस्र वालों को इसकी जानकारी मिली, तो उन्हें बहुत दुख पहुंचा, क्योंकि उन्होंने ज़िन्दगीभर ज़ू-उल-नून मिस्री के साथ दुशमनों जैसा बर्व्यताव किया. उनकी उठी हुई अंगुली इस बात का सबूत थी कि उन्हें अल्लाह के सिवा किसी और से कोई भी वास्ता नहीं था. इसलिए उन्होंने मिस्र के लोगों के प्रति कभी अपने मन में कोई द्वेष-भाव नहीं रखा.
(हमारी किताब गंगा-जमुनी संस्कृति के अग्रदूत से)

1 comments |

हज़रत दाऊद ताई

Author: Admin Labels:: , , , , ,

फ़िरदौस ख़ान
प्रसिद्ध सूफ़ी संत दाऊद ताई ने अपनी सारी ज़िन्दगी अल्लाह की इबादत में गुज़ारी. वे भक्ति, वैराग्य और त्याग का प्रतीक थे. हर व्यक्ति की तरह वे भी साधारण मनुष्य थे, लेकिन उनके जीवन में एक मोड़ ऐसा आया कि जिसने उनके जीवन की दिशा ही बदल दी. एक बार एक फ़क़ीर अल्लाह की मुहब्बत से सराबोर एक गीत गा रहा था-
कौन-सा तेरा चेहरा ख़ाक में नहीं मिले
और कौन-सी तेरी आंख ज़मीन पर नहीं बही
यह शेअर उनके दिल को छू गया. उन्होंने आत्ममंथन किया और फिर संसार और सांसारिक जीवन उन्हें व्यर्थ लगने लगा. बेख़ुदी की हालत में वह हज़रत इमाम अबु हनीफ़ा की ख़िदमत में हाज़िर हुए और पूरा वाक़िया उनसे बयान करके कहा कि मेरा दिल अब दुनिया भर गया है. आप कोई रास्ता बताएं कि दिल को कुछ सुकून हासिल हो. यह सुनकर इमाम साहब ने फरमाया कि एकांत में चले जाओ. उन्होंने ऐसा ही किया. कुछ वक़्त बाद इमाम साहब ने फ़रमाया कि अब यह बेहतर है कि लोगों से मिलो और उनकी बातों पर सब्र करो. इसके बाद वे संतों की संगत में रहने लगे. इसी दौरान प्रसिद्ध संत हबीब राई से उनकी मुलाक़ात हुई. संत से प्रभावित होकर उन्होंने उनसे दीक्षा ली और उनके शिष्य बन गए.

उन्हें विरासत में बीस दीनार मिले थे. वे उसी में ख़ुश रहते थे. जब किसी ने उनसे पूछा कि क्या संतों को धन का संग्रह करना शोभा देता है, तो उन्होंने कहा कि इन दीनारों की वजह उन्हें रोज़ी-रोटी के लिए कोई काम नहीं करना पड़ता और वे निश्चिंत होकर अल्लाह की इबादत कर सकते हैं. इसलिए ज़िन्दगीभर के लिए यह रक़म उनके लिए काफ़ी है. उन्हें अल्लाह की इबादत के अलावा किसी और चीज़ में कोई दिलचस्पी नहीं थी. दिन-रात वे इबादत में ही लीन रहते थे. इबादत की वजह से उन्होंने निकाह भी नहीं किया. जब उनके परिचित उनसे शादी की बात करते, तो वे कहते थे कि जब उनके पास अल्लाह के अलावा किसी और के लिए ज़रा भी वक़्त नहीं, तो फिर शादी करके किसी लड़की की ज़िन्दगी क्यों बर्बाद करूं. किसी ने पूछा दाढ़ी में कंघी क्यों नहीं करते, तो उन्होंने फ़रमाया कि अल्लाह से फ़ुर्सत मिले, तो करूं भी. उन्हें भोजन करने में वक़्त बर्बाद करना भी तकलीफ़देह महसूस होता था. इसलिए वे तरल भोजन ही करते थे. अगर किसी दिन तरल भोजन न मिलता, तो भोजन में पानी डालकर उसे पी लेते थे, ताकि अपना ज़्यादा से ज़्यादा वक़्त अल्लाह की इबादत में ही बिता सकें.

वे जिस मकान में रहते थे, वह बहुत पुराना और जर्जर हालत में था. जब उसका एक हिस्सा गिर गया, तो वे दूसरे हिस्से में रहने लगे और जब वह भी ढह गया, तो दरवाज़े के पास आकर रहने लगे. जब मोहल्ले वालों ने कहा कि वे मकान की मरम्मत करा लें, तो उन्होंने कहा कि उन्हें अल्लाह की इबादत से इतना वक़्त ही नहीं मिलता कि वे घर की तरफ़ ध्यान दें. जिस प्रकार भारतीय दर्शन में इंद्रियों पर नियंत्रण को जीवन के लिए महत्वपूर्ण बताया गया है, उसी प्रकार संत दाऊद ताई ने भी इंद्रियों पर नियंत्रण को सुखी जीवन का आधार क़रार दिया है. उनका कहना है कि इंद्रियों के सुख के जाल में फंसकर मनुष्य अच्छे-बुरे की पहचान भूल जाता है. वे ख़ुद भी इससे दूर रहते थे. एक बार की बात है कि रमज़ान के दिनों में वे धूप में बैठे अल्लाह की इबादत कर रहे थे. उनकी मां ने जब देखा कि रोज़े में भी वे चिलचिलाती धूप में बैठे हैं, तो उन्होंने दाऊद ताई से छांव में आ जाने के लिए कहा. इस पर दाऊद ताई ने कहा कि जब वे अल्लाह की इबादत के लिए बैठे थे, तब यहां छांव ही थी और अब यहां धूप आ गई, तो फिर वे केवल इंद्रियों के सुख के लिए छांव में क्यों आएं.

वे कहते थे कि मनुष्य को सीमित साधनों में ही संतुष्ट रहना चाहिए, क्योंकि इच्छाओं का कोई अंत नहीं है. जब व्यक्ति की एक इच्छा पूरी हो जाती है, तो वे कोई और इच्छा पूरी करना चाहता है. एक के बाद एक इसी तरह इच्छाओं की पूर्ति के प्रयासों में वे अपना सारा जीवन बर्बाद कर लेता है. अगर मनुष्य अपनी इच्छाओं को सीमित रखे, तो वे ज़्यादा सुखी रह सकता है. ऐसा व्यक्ति समाज के लिए भी बेहद उपयोगी होता है. जब पैतृक संपत्ति में मिले उनके दीनार ख़त्म हो गए, तो उन्होंने एक ईमानदार व्यक्ति को अपना मकान बेच दिया, ताकि उन्हें हलाल की कमाई ही मिले. धीरे-धीरे उनकी यह रक़म भी ख़त्म होने लगी. हारून रशीद ने उन्हें कुछ अशर्फ़ियां भेंट करनी चाहीं, तो उन्होंने उन्हें लेने से साफ़ इंकार कर दिया. जब हारून रशीद ने उनसे आग्रह किया कि वे उनसे कम-से-कम एक अशर्फ़ी तो भेंट स्वरूप स्वीकार कर लें, तो उन्होंने कहा कि उनके पास जो रक़म है, वे उनके लिए काफ़ी है. उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने अल्लाह से विनती की है कि जब उनके पास मौजूद यह राशि भी ख़त्म हो जाए, तो वह उन्हें इस संसार से बुला ले, ताकि उन्हें किसी का अहसान न लेना पड़े. अल्लाह ने अपने बंदे की दुआ को क़ुबूल किया. जब उनकी सारी रक़म ख़त्म हो गई, तो वे इस नश्वर संसार को छोड़कर सदा के लिए सर्वशक्तिमान अल्लाह के पास चले गए.

किसी ने संत दाऊद ताई को ख़्वाब में उड़ते हुए यह कहते सुना कि आज मुझे क़ैद से आज़ादी मिल गई है. सुबह वह व्यक्ति ख़्वाब की ताबीर पूछने के लिए दाऊद ताई के घर पास पहुंचा, तो उसे वहां उनके इंतक़ाल की ख़बर मिली. वह व्यक्ति अपने ख़्वाब की ताबीर समझ गया. रिवायत है कि इंतक़ाल के वक़्त आसमान से यह आवाज़ आई कि दाऊद ताई अपनी मुराद को पहुंच गया और अल्लाह तअला भी उनसे ख़ुश है. उन्होंने वसीयत की थी कि उन्हें दीवार के नीचे दफ़न किया जाए. उनकी इस वसीयत को पूरा कर दिया गया.

वे हमेशा दुखी रहते थे और फ़रमाया करते थे कि जिसे हर पल मुसीबतों का सामना करना हो, उसे ख़ुशी किस तरह हासिल हो सकती है. संत दाऊद ताई लोगों को परनिंदा से दूर रहने की सीख देते हुए कहते हैं कि व्यक्ति को सदैव अपने अंदर झांककर देखना चाहिए. उसे आत्मविश्लेषण करना चाहिए कि कहीं उसकी वजह से किसी दूसरे को दुख तो नहीं पहुंचा है. ऐसा करने से व्यक्ति अनेक बुराइयों से बच जाता है. एक बार संत दाऊद ताई से कोई ग़लती हो गई. अपनी ग़लती को याद कर वे अकसर रोने लगते. जब कोई उनसे रोने का कारण पूछता, तो वे कहते कि वे अपनी ग़लती को कभी भूल नहीं पाते. इसलिए रोने लगते हैं. वे कहते थे कि इंसान को अपनी ग़लतियों से सबक़ हासिल करना चाहिए और गुनाह के लिए अल्लाह से माफ़ी मांगनी चाहिए. बेशक, संत दाऊद ताई का जीवन लोगों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है.
(हमारी किताब गंगा-जमुनी संस्कृति के अग्रदूत से)

0 comments |

हज़रत फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़

Author: Admin Labels:: , , , , ,

फ़िरदौस ख़ान
प्रसिद्ध सूफ़ी संत फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ पहले डाकू थे. वे राहगीरों को लूटते थे. बाद में लूट का माल अपने साथियों में बांट देते और जो चीज़ पसंद आती, उसे अपने पास रख लेते. रिवायत यह भी है कि वे बड़े रहम दिल और बहादुर थे. जिस काफ़िले में कोई औरत होती या जिनके पास थोड़ी रक़म होती, उनको नहीं लूटते थे और जिसको लूटते थे उसके पास कुछ न कुछ माल ज़रूर छोड़ देते थे. उनकी एक ख़ासियत यह थी कि वे डाकू होने के साथ-साथ अल्लाह की इबादत भी करते थे. वे नियमित रूप से अपने साथियों के साथ मिलकर नमाज़ पढ़ते और रोज़े (व्रत) भी रखते. मगर एक वाक़िये ने उनकी ज़िन्दगी को पूरी तरह बदल दी. उन्होंने सारे बुरे काम छोड़ कर अपनी ज़िन्दगी अल्लाह की इबादत और लोक कल्याण में ही गुज़ारने का संकल्प ले लिया.

एक बार जंगल में से एक क़ाफ़िला आया. क़ाफ़िले वालों ने जब यह सुना कि यह इलाक़ा फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ का है, तो वे डर से कांपने लगे. एक व्यक्ति के पास बहुत-सा धन था. उसने सोचा कि अगर धन को जंगल में कहीं छुपा दिया जाए, तो यह लुटने से बच जाएगा. इसलिए वह सुरक्षित स्थान की खोज में निकल पड़ा. इसी दौरान उसने देखा कि एक जगह एक संत (फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़) ख़ेमे में नमाज़ पढ़ रहा है. वह वहीं खड़ा हो गया और संत की नमाज़ पूरी होने का इंतज़ार करने लगा. संत ने नमाज़ पूरी करने के बाद दुआ के लिए हाथ उठाने से पहले उस व्यक्ति को इशारा किया कि वह धन की पोटली को वहीं रख दे. उस व्यक्ति ने ऐसा ही किया और फिर वापस क़ाफ़िले में आ गया. डाकुओं ने क़ाफ़िले को लूट लिया. बाद में राहगीर संत के ख़ेमे में गया, तो वहां का नज़ारा देखकर हैरान रह गया. वहां डाकू लूट का माल बांट रहे थे. इतने में फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ की नज़र राहगीर पर पड़ी, तो उन्होंने उससे कहा कि उसने जहां पोटली रखी थी, वहीं से उठा ले. राहगीर अपनी पोटली लेकर चला गया. इसके बाद एक डाकू ने फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ से पूछा कि आपने उस पोटली को वापस क्यों दे दिया? सारा धन तो उसी में था. इस पर उन्होंने जवाब दिया कि उस व्यक्ति ने मुझ पर विश्वास करके अपनी अमानत मुझे सौंपी थी, इसलिए मैं उसके साथ विश्वासघात भला कैसे कर सकता था.

इसी तरह एक और क़ाफ़िले को लूटने के बाद जब डाकू भोजन करने बैठे, तो एक राहगीर ने उनसे पूछा कि उनका सरदार कहां है? इस पर डाकुओं ने बताया कि वे दरिया किनारे नमाज़ पढ़ रहे हैं. राहगीर ने कहा कि क्या वे भोजन नहीं करते? एक डाकू ने जवाब दिया कि उनका रोज़ा (व्रत) है. राहगीर ने हैरानी ज़ाहिर करते हुए फिर पूछा कि इन दिनों न तो रमज़ान हैं और न ही नमाज़ का वक़्त. डाकू ने बताया कि वे नफ़िल पढ़ रहे हैं. यह सुनकर राहगीर फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ के पास गया और पूछा कि अल्लाह की इबादत के साथ डकैती का क्या जोड़ है. उन्होंने राहगीर से पूछा कि क्या तूने क़ुरआन पढ़ा है? उसने हां में जवाब दिया, तो फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ ने यह आयत पढ़ी-
व आख़रूना आत-र-फ़ू बिज़ुनु बिहिम ख़-ल-तू अ-म-लन सालिहन
यानी दूसरों ने अपने गुनाहों का इक़रार करते हुए नेक कामों को उसके साथ गुडमुड कर दिया. वह राहगीर उनकी बात सुनकर ख़ामोश हो गया.

कहते हैं कि फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ एक महिला से प्रेम करते थे और लूट के माल का अपना हिस्सा उसी के पास भेज देते थे. वे अकसर उसके पास जाते थे. एक बार रात में कोई क़ाफ़िला आकर ठहरा और उसमें एक व्यक्ति इस आयत की तिलावत कर रहा था-
अलम यानी लिल्लज़ीन आमनू तख़ श-अ कुलबुहुम बिज़िक रिल्लाहि
यानी क्या ईमान वालों के लिए वह वक़्त नहीं आया कि उनका दिल अल्लाह के ज़िक्र से ख़ौफ़ज़दा हो जाए.

यह सुनकर फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ को बेहद दुख हुआ. उन्होंने अल्लाह से अपने गुनाहों के लिए माफ़ी मांगते हुए संकल्प लिया कि अब वे सारे बुरे काम छोड़कर मानवता की सेवा करेंगे. उन्होंने जिन लोगों को लूटा था, उनके पास जाकर क्षमा मांगी. उनकी सद्भावना को देखते हुए लोग उन्हें क्षमा कर देते थे. मगर एक यहूदी ने उन्हें क्षमा नहीं किया. उनके ज़्यादा आग्रह करने पर उसने शर्त रखी कि अगर वे वहां स्थित एक टीले को हटा दें, तो वह उन्हें क्षमा कर देगा. इस पर फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ ने टीले की मिट्टी को अपने सिर पर ढोना शुरू कर दिया. इसी दौरान एक भयंकर आंधी आई और टीले को उड़ाकर ले गई. इसके बाद उसने एक और शर्त रख दी कि अगर वे उसके सिरहाने रखी अशर्फ़ियों की थैली उठाकर उसे दे दें, तो वे उन्हें क्षमा कर देगा. उन्होंने ऐसा ही किया. यहूदी ने थैली खोली, तो वह हैरान रह गया. इसके बाद उसने यह शर्त रखी कि पहले मुझे मुसलमान कर लो, फिर माफ़ करूंगा और उन्होंने कलमा पढ़ाकर उसे मुसलमान कर लिया. इस्लाम क़ुबूल करने के बाद उसने बताया कि उसने तौरेत (धार्मिक ग्रंथ) में पढ़ा था कि जिसकी तौबा सच्ची होती है, उसके हाथ से मिट्टी भी सोना बन जाती है, लेकिन मुझे इस पर विश्वास नहीं था. इसलिए उसने थैली में मिट्टी भरकर रखी थी, जो उनका हाथ लगते ही सोना हो गई. मुझे यक़ीन हो गया कि आपका दीन सच्चा है.

फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ अपने अपराधों की सज़ा पाने के लिए ख़ुद बादशाह के दरबार में भी हाज़िर हुए और उससे दंड देने का आग्रह किया. मगर बादशाह ने उन्हें सज़ा देने की बजाय उनका आदर सत्कार किया.

एक बार की बात है कि फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ अपने बच्चे को गोद में लिए हुए प्यार कर रहे थे कि बच्चे ने सवाल किया कि क्या आप मुझे अपना महबूब समझते हैं. उन्होंने फ़रमाया कि बेशक. फिर बच्चे ने पूछा कि अल्लाह को भी महबूब समझते हैं. फिर एक दिल में दो चीज़ों की मुहब्बत कैसे जमा हो सकती है. यह सुनते ही बच्चे को गोद से उतार कर वे इबादत में मसरूफ़ हो गए. उनके बारे में मशहूर है कि उन्हें तीस साल तक किसी ने कभी हंसते हुए नहीं देखा, लेकिन जब उनके बेटे का इंतक़ाल हो गया, तो वे मुस्कराते रहे. जब लोगों ने इसकी वजह पूछी, तो उन्होंने फ़रमाया कि अल्लाह इसकी मौत से ख़ुश हुआ है, इसलिए मैं भी उसकी ख़ुशी में ख़ुश हूं.

फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ ने अपना सारा जीवन लोक कल्याण में व्यतीत किया. वे सत्संग कर लोगों को नेकी और सच्चाई के रास्ते पर चलने का उपदेश देते थे.  उनका जीवन मानवता से भटके लोगों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है. आज दुनियाभर में जेहाद के नाम पर आतंक का माहौल है. जो लोग धर्म के नाम पर क़त्ले-आम कराते हैं, उन्हें फ़ुज़ैल-बिन-अयाज़ के जीवन से शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए.
(हमारी किताब गंगा-जमुनी संस्कृति के अग्रदूत से)

1 comments |

मुहर्रम के रोज़े और नमाज़

Author: Admin Labels:: , , ,

हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया- जो शख़्स आशूरा (10 मोहर्रम) के दिन चार रकअत नमाज़ पढ़े. हर रकअत में सूरह फ़ातिहा के बाद 11 बार सूरह इख़्लास पढ़े, तो अल्लाह तआला उसके पचास साल के गुनाह मुआफ़ कर देता है और उसके लिए नूर का मिमबर बनाता है.
(नुजहतुल मजालिस 1/178)
मुहर्रम के रोज़े


आशूरा के रोज़ पढ़ें


0 comments |

77 सूर: अल-मुरसलात

Author: Admin Labels::

मक्का नाज़िल हुई और इसकी 50 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. हवाओं की क़सम जो पहले हौले चलती हैं
2. फिर ख़ूब तेज़ होकर आंधी बन जाती हैं
3. और बाद्लों को उभार कर फैला देती हैं
4. फिर उन्हें फाड़कर अलग-अलग कर देती हैं
5. फिर फ़रिश्तों की क़सम, जो वही लाते हैं
6. पैग़ाम देने और ख़बरदार करने के लिए
7. कि जिस बात का तुमसे वादा किया जाता है, वह ज़रूर होकर रहेगा
8. और जब तारों की चमक ख़त्म हो जाएगी
9. और जब आसमान फट जाएगा
10. और जब पहाड़ रूई की तरह उड़े-उड़े फिरेंगे
11. और जब पैग़ंबर एक तयशुदा वक़्त पर जमा किए जाएंगे
12. किस दिन के लिए वे टाले गए हैं
13. फ़ैसले के दिन के लिए
14. और तुम्हें क्या मालूम कि फ़ैसले का दिन क्या है
15. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
16. क्या हमने पहले वालों को हलाक नहीं किया
17. फिर उनके बाद वालों को भी चलता करेंगे
18. हम गुनाहगारों के साथ ऐसा ही किया करते हैं
19. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
20. क्या हमने तुम्हें गंदे पानी से पैदा नहीं किया
21. फिर हमने उसे एक तयशुदा वक़्त तक रखा
22. एक महफ़ूज़ जगह रखा
23. फिर उसका एक अंदाज़ा मुक़र्रर किया, तो हम कैसा अच्छा अंदाज़ा मुक़र्रर करने वाले हैं
24. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
25. क्या हमने ज़मीन को ज़िन्दों और मुर्दों को समेटने वाली नहीं बनाया
26. और उसमें ऊंचे-ऊंचे अटल पहाड़ रख दिए
27. और तुम लोगों को मीठा पानी पिलाया
28. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
29. जिस चीज़ को तुम झुठलाया करते थे, अब उसकी तरफ़ चलो
30. धुएं के साये की तरह चलो, जिसके तीन हिस्से हैं
31. जिसमें न ठंडक है और न जहन्नुम की लपट से बचाएगा
32. उससे इतने बड़े-बड़े अंगारे बरसते होंगे, जैसे महल
33. गोया ज़र्द रंग के ऊंट हैं
34. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
35. ये वह दिन होगा कि लोग होंठ तक न हिला सकेंगे
36. और उन्हें इजाज़त नहीं दी जाएगी कि वह कुछ बोल भी सकें
37. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
38. यही फ़ैसले का दिन है, जिसमें तुम्हें और तुमसे पहले के लोगों को इकट्ठा किया गया है
39. अगर तुम कोई साज़िश करना चाहते हो, तो कर लो
40. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
41. बेशक परहेज़गार लोग दरख़्तों की घनी छांव में होंगे
42. और चश्मों और इंसानों के बीच जो उन्हें अज़ीज़ हों
43. दुनिया में जो अमल करते थे, उसके बदले वे ख़ुश रहेंगे
44. मुबारक हो, हम नेक लोगों को ऐसे ही
45. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
46. कुछ दिन चैन से खा पी लो, तुम बेशक गुनाहगार हो
47. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
48. जब उनसे कहा जाता है कि झुको, तो नहीं झुकते
49. उस दिन झुठलाने वालों की तबाही है
50. अब इसके बाद ये किस पर ईमान लाएंगे
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

Ishq Ne Aala Banaa diya

Author: Admin Labels::


Humko Ali (as) Ke Ishq Ne Aala Banaa diya
Qatra Tha Hussain (as) Ne Dariya Bana Diya
Jab Maatami Libhaaz Kiya Humne Zeb-E-Tan
Humko Gham-e-Hussain (as) Ne Kaaba Banadiya
-Namaaloom

Kya sirf musaaan ke pyaarey hain Hussain
Chiraag-e-noh bashar ke tarey hain Hussain
Insaan ko baidaar to ho lene do zara tum
Har qaum pukaarey gi hamarey hain Hussain
-Namaaloom

Islam Ke Daman Men Bas Is Ke Siva Kya Hai
Ek Zarb-E Yadulla Hi Ek Sajda-E Shabbiri
-Allama Muhammad Iqbal

Is Qadar Roya Main Sun k Dastan-E-Karbala
Main To Hindu Hi Raha, Aankhein Hussaini Ho Gayin
-Rajinder Kumar

0 comments |

Islam Zinda Ker Diya

Author: Admin Labels::


Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Karbala Ko Jis Key Sajdey Ney Mu-Allah Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Hasher Tak Koi Yazeede Sar Utha Sakta Naheen
Jis Ka Mutlab Zindagee Bher Deen Chuka Saktna Naheen
Fatima Key Lal Ney Aehsaan Aesa Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Karbala Ko Jis Key Sajdey Ney Mu-Allah Ker Diya
Day Ker Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Teri Qurbanee Sey Pehley Deen Ko Aya Na Chain
Umbeya Sey Bhee Mukamal Jo Na Ho Paya Hussain
Ek Sajdey Ney Tarey Woh Kaam Pora Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Karbala Ko Jis Key Sajdey Ney Mu-Allah Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Aajj Bhee Nazan Wafaein Hain Tarey Abass Per
Neahr Per Ghazi Key Donoon Kat Gaye Bazo Mager
Ta-Abad Islam Key Percham Ko Ouncha Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Karbala Ko Jis Key Sajdey Ney Mu-Allah Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Maar Key Ibn-E-Ali Ko Cheeni Zenab Ki Rida
Jab Para Kalma Nabee Ka Phir Sar-E-Kabubala
Aaal-E-Ahmad Key Liye Kyuon Hashar Berpa Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Karbala Ko Jis Key Sajdey Ney Mu-Allah Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Naaz Senoon Key Sinnah Per Ubhrah Tha Jawad Jo
Kasey Bholey Ga Zamana Fatima Key Chand Ko
Sar Kata Key Us Ney Apna Youn Ujala Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Day Key Saar Shabeer Ney Islam Zinda Ker Diya
Karbala Ko Jis Key Sajdey Ney Mu-Allah Ker Diya
-Namaaloom

0 comments |

Hussain Hi Hussain Hain

Author: Admin Labels::


Shajar Shajar, Samar Samar
Hussain Hi Hussain Hain
Zameen Se Aasman Talak Nazar Gayi Jahan
Dua Dua, Asar Asar
Hussain Hi Hussain Hain
NABI ki Pusht-e-Pak Ho
Ya Karbala Ki Khaak Ho
Ghuroor-e-Sajda Jis Ka Sar
Hussain Hi Hussain Hain
Jo Zair-e-Taigh, La-Ilah
Kaha To Keh Utha Khuda
Hai Jis Pe Mujh Ko Naaz Woh
Hussain Hi Hussain Hain
Kata Ke Sar, Luta Ke Ghar
Karay Jo Sajda Khaak Par
Zameen Pe aisa Moa’tbar
Hussain Hi Hussain Hain
- Namaaloom

0 comments |

इल्मे-सीना

Author: Admin Labels::

हमने एक सूफ़ी साहब से सवाल किया- इल्मे-सीना आम लोगों के लिए क्यों नहीं ?
उन्होंने सवाल के जवाब में हमसे सवाल किया- क्या दूध पीते बच्चे को क़ौरमा खिलाया जा सकता है?
हमने कहा- बिल्कुल नहीं, क्योंकि क़ौरमा उसे हज़्म नहीं हो सकता...
उन्होंने कहा- ठीक इसी तरह एक आम इंसान इल्मे-सीना को हज़्म नहीं कर पाएगा...
हमें हैरानी है कि कुछ नाम नेहाद आलिम कह रहे हैं कि इल्मे-सीना जैसा कोई इल्म ही नहीं होता... यानी ये लोग अभी इल्मे-सफ़ीना को भी नहीं समझ पाए हैं, वरना ऐसी हिमाक़त न करते...
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

हज़रत अबुल हसन ख़रक़ानी

Author: Admin Labels:: , , , , ,


फ़िरदौस ख़ान
अबुल हसन ख़रक़ानी प्रसिद्ध सूफ़ी संत हैं. उनका असली नाम अबुल हसन हैं, मगर ख़रक़ान में जन्म लेने की वजह से वे अबुल हसन ख़रक़ानी के नाम से विख्यात हुए. सुप्रसिद्ध ग्रंथकार हज़रत शेख़ फ़रीदुद्दीन अत्तार के मुताबिक़ एक बार सत्संग में अबुल हसन ख़रक़ानी ने बताया कि उन्हें उस वक़्त की बातें भी याद हैं, जब वे अपनी मां के गर्भ में चार महीने के थे.

अबुल हसन ख़रक़ानी एक चमत्कारी संत थे, लेकिन उन्होंने कभी लोगों को प्रभावित करने के लिए अपनी दैवीय शक्तियों का इस्तेमाल नहीं किया. वे कहते हैं कि अल्लाह अपने यश के लिए चमत्कार दिखाने वालों से चमत्कारी शक्तियां वापस ले लेता है. उन्होंने अपनी शक्तियों का उपयोग केवल लोककल्याण के लिए किया. एक बार उनके घर कुछ मुसाफ़िर आ गए, जो बहुत भूखे थे. उनकी पत्नी ने कहा कि घर में दो-चार ही रोटियां हैं, जो इतने मेहमानों के लिए बहुत कम पड़ेंगी. इस पर अबुल हसन ख़रक़ानी ने कहा कि सारी रोटियों को साफ़ कपड़े से ढककर मेहमानों के सामने रख दो. उनकी पत्नी ने ऐसा ही किया. मेहमानों ने भरपेट रोटियां खाईं, मगर वे कम न पड़ीं. मेहमान तृप्त होकर उठ गए, तो उनकी पत्नी ने कपड़ा हटाकर देखा, तो वहां एक भी रोटी नहीं थी. इस पर अबुल हसन ख़रक़ानी ने कहा कि अगर और भी मेहमान आ जाते, तो वे भी भरपेट भोजन करके ही उठते.

वे बाहरी दिखावे में विश्वास न रखकर कर्म में यकीन करते थे. वे कहते हैं कि जौ और नमक की रोटी खाने या टाट के वस्त्र पहन लेने से कोई सूफ़ी नहीं हो जाता. अगर ऐसा होता, तो ऊन वाले और जौ खाने वाले जानवर भी सूफ़ी कहलाते. अबुल हसन ख़रक़ानी कहते हैं कि सूफ़ी वह है जिसके दिल में सच्चाई और अमल में निष्ठा हो. वे शिष्य नहीं बनाते थे, क्योंकि उन्होंने भी स्वयं किसी गुरु से दीक्षा नहीं ली थी. वे कहते थे कि उनके लिए अल्लाह ही सब कुछ है. मगर इसके साथ ही उनका यह भी कहना था कि सांसारिक लोग अल्लाह के इतने करीब नहीं होते, जितने संत-फ़कीर होते हैं. इसलिए लोगों को संतों के प्रवचनों का लाभ उठाना चाहिए, क्योंकि संतों का तो बस एक ही काम होता है अल्लाह की इबादत और लोककल्याण के लिए सत्संग करना.

एक बार किसी क़ाफ़िले को ख़तरनाक रास्ते से यात्रा करनी थी. क़ाफ़िले में शामिल लोगों ने अबुल हसन ख़रक़ानी से आग्रह किया कि वे उन्हें कोई ऐसी दुआ बता दें, जिससे वे यात्रा की मुसीबतों से सुरक्षित रहें. इस पर उन्होंने कहा कि जब भी तुम पर कोई मुसीबत आए, तो तुम मुझे याद कर लेना. मगर लोगों ने उनकी बात को गंभीरता से नहीं लिया. काफ़ी दूरी तय करने के बाद एक जगह डाकुओं ने क़ाफ़िले पर धावा बोल दिया. एक व्यक्ति जिसके पास बहुत-सा धन और क़ीमती सामान था, उसने अबुल हसन ख़रक़ानी को याद किया. जब डाकू क़ाफ़िले को लूटकर चले गए, तो क़ाफ़िले वालों ने देखा कि उनका तो सब सामान लुट चुका है, लेकिन उस व्यक्ति का सारा सामान सुरक्षित है. लोगों ने उससे इसकी वजह पूछी, तो उस व्यक्ति ने बताया कि उसने अबुल हसन ख़रक़ानी को याद कर उनसे सहायता की विनती की थी. इस वाक़िये के कुछ वक़्त बाद जब क़ाफ़िला वापस ख़रक़ान आया, तो लोगों ने अबुल हसन ख़रक़ानी से कहा कि हम अल्लाह को याद करते रहे, मगर हम लुट गए और उस व्यक्ति ने आपका नाम लिया, तो वह बच गया. इस पर अबुल हसन ख़रक़ानी ने कहा कि तुम केवल ज़ुबानी तौर पर अल्लाह को याद करते हो, जबकि संत सच्चे दिल से अल्लाह को याद करते हैं. अगर तुमने मेरा नाम लिया होता, तो मैं तुम्हारे लिए अल्लाह से दुआ करता.

एक बार वे अपने बाग की खुदाई कर रहे थे, तो वहां से चांदी निकली. उन्होंने उस जगह को बंद करके दूसरी जगह से खुदाई शुरू की, तो वहां से सोना निकला. फिर तीसरी और चौथी जगह से खुदाई शुरू की, तो वहां से भी हीरे-जवाहरात निकले, लेकिन उन्होंने किसी भी चीज़ को हाथ नहीं लगाया और फ़रमाया कि अबुल हसन इन चीज़ों पर मोहित नहीं हो सकता. ये तो क्या अगर दोनों जहां भी मिल जाएं, तो भी अल्लाह से मुंह नहीं मोड़ सकता. हल चलाते में जब नमाज़ का वक़्त आ जाता, तो वे बैलों को छोड़कर नमाज़ अदा करने चले जाते. जब वे वापस आते तो ज़मीन तैयार मिलती.

वे लोगों को अपने कर्तव्यों का निष्ठा से पालन करने की सीख भी देते थे. अबुल हसन ख़रक़ानी और उनके भाई बारी-बारी से जागकर अपनी मां की सेवा करते थे. एक रात उनके भाई ने कहा कि आज रात भी तुम ही मां की सेवा कर लो, क्योंकि मैं अल्लाह की इबादत करना चाहता हूं. उन्होंने अपने भाई की बात मान ली. जब उनके भाई इबादत में लीन थे, तब उन्हें आकाशवाणी सुनाई दी कि ''अल्लाह ने तेरे भाई की मग़फ़िरत की और उसी के ज़रिये से तेरी भी मग़फ़िरत कर दी.'' यह सुनकर उनके भाई को बड़ी हैरानी हुई और उन्होंने कहा कि मैंने अल्लाह की इबादत की, इसलिए इसका पहला हकदार तो मैं ही था. तभी उसे ग़ैबी आवाज़ सुनाई दी कि ''तू अल्लाह की इबादत करता है, जिसकी उसे ज़रूरत नहीं है. अबुल हसन ख़रक़ानी अपनी मां की सेवा कर रहा है, क्योंकि बीमार ज़ईफ़ मां को इसकी बेहद ज़रूरत है.'' यानी, अपने माता-पिता और दीन-दुखियों की सेवा करना भी इबादत का ही एक रूप है. वे कहते थे कि मुसलमान के लिए हर जगह मस्जिद है, हर दिन जुमा है और हर महीना रमज़ान है. इसलिए बंदा जहां भी रहे अल्लाह की इबादत में मशग़ूल रहे. एक रोज़ उन्होंने ग़ैबी आवाज़ सुनी कि ''ऐ अबुल हसन जो लोग तेरी मस्जिद में दाख़िल हो जाएंगे उन पर जहन्नुम की आग हराम हो जाएगी और जो लोग तेरी मस्जिद में दो रकअत नमाज़ अदा कर लेंगे उनका हश्र इबादत करने वाले बंदों के साथ होगा.''

अपनी वसीयत में उन्होंने ज़मीन से तीस गज़ नीचे दफ़न होने की ख़्वाहिश ज़ाहिर की थी. अबुल हसन ख़रक़ानी यह भी कहते थे कि किसी भी समाज को शत्रु से उतनी हानि नहीं पहुंचती, जितनी कि लालची विद्वानों और ग़लत नेतृत्व से होती है. इसलिए यह ज़रूरी है कि लोग यह समझें कि हक़ीक़त में उनके लिए क्या सही है और क्या ग़लत.
(हमारी किताब गंगा-जमुनी संस्कृति के अग्रदूत से)

0 comments |

ख़ुद को मिटा देना ही इश्क़ की इंतेहा है

Author: Admin Labels::


फ़िरदौस ख़ान
इस्लाम में सूफ़ियों का अहम मुक़ाम है. सूफ़ी मानते हैं कि सूफ़ी मत का स्रोत ख़ुद पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद सलल्ललाहु अलैहि वसल्लम हैं. उनकी प्रकाशना के दो स्तर हैं, एक तो जगज़ाहिर क़ुरआन हि, जिसे इल्मे-सफ़ीना (किताबी ज्ञान) कहा गया है, जो सभी आमो-ख़ास के लिए है. और दूसरा इल्मे-सीना (गुह्य ज्ञान) जो सूफ़ियों के लिए है. उनका यह ज्ञान पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद, ख़लीफ़ा अबू बक़्र, हज़रत अली, हज़रत बिलाल और पैग़म्बर के अन्य चार क़रीबी साथियों के ज़रिये एक सिलसिले में चला आ रहा है, जो मुर्शिद से मुरीद को मिलता है. पीरों और मुर्शिदों की यह रिवायत आज भी बदस्तूर जारी है. दुनियाभर में अनेक सूफ़ी हुए हैं, जिन्होंने लोगों को राहे-हक़ पर चलने का पैग़ाम दिया. इन्हीं में से एक हैं फ़ारसी के सुप्रसिद्ध कवि रूमी. वह ज़िंदगी भर इश्क़े-इलाही में डूबे रहे. उनकी हिकायतें और बानगियां तुर्की से हिंदुस्तान तक छाई रहीं. आज भी खाड़ी देशों सहित अमेरिका और यूरोप में उनके कलाम का जलवा है. उनकी शायरी इश्क़ और फ़ना की गहराइयों में उतर जाती है. ख़ुदा से इश्क़ और इश्क़ में ख़ुद को मिटा देना ही इश्क़ की इंतहा है, ख़ुदा की इबादत है.
वह ख़ुद कहते हैं-
बंदगी कर, जो आशिक़ बना सकती है
बंदगी काम है जो अमल में ला देती है
बंदा क़िस्मत से आज़ाद होना चाहता है
आशिक़ अबद से आज़ादी नहीं चाहता है
बंदा चाहता है हश्र के ईनाम व ख़िलअत
दीदारे-यार है आशिक़ की सारी ख़िलअत
इश्क़ बोलने व सुनने से राज़ी होता नहीं
इश्क़ दरिया वो जिसका तला मिलता नहीं
हिन्द पॉकेट बुक्स द्वारा प्रकाशित किताब रूमी में सूफ़ी कवि रूमी की ज़िंदगी, उनके दर्शन और उनके कलाम को शामिल किया गया है. इसके साथ ही इस किताब में सूफ़ी मत के बारे में भी संक्षिप्त मगर अहम जानकारी दी गई है. इस किताब का संपादन अभय तिवारी ने किया है. इस किताब के दो खंड हैं-रूमी की बुनियाद : सूफ़ी मत और मसनवी मानवी से काव्यांश. पहले खंड में सूफ़ी मत का ज़िक्र किया गया है. बसरा में दसवीं सदी के पूर्वार्ध में तेजस्वी लोगों के दल इख़्वानुस्सफ़ा के मुताबिक़, एक आदर्श आदमी वह है, जिसमें इस तरह की उत्तम बुद्धि और विवेक हो जैसे कि वह ईरानी मूल का हो, अरब आस्था का हो, धर्म में सीधी राह की ओर प्रेरित हनी़फ़ी (इस्लामी धर्मशास्त्र की सबसे तार्किक और उदार शाख़ा के मानने वाले) हो, शिष्टाचार में इराक़ी हो, परंपरा में यहूदी हो, सदाचार में ईसाई हो, समर्पण में सीरियाई हो, ज्ञान में यूनानी हो, दृष्टि में भारतीय हो, ज़िंदगी जीने के ढंग में रहस्यवादी (सूफ़ी) हो.
रूमी को कई नामों से जाना जाता है. अफ़ग़ानी उन्हें बलख़ी पुकारते हैं, क्योंकि उनका जन्म अफ़ग़ानिस्तान के बलख़ शहर में हुआ था. ईरान में वह मौलवी हैं, तुर्की में मौलाना और हिंदुस्तान सहित अन्य देशों में रूमी. आज जो प्रदेश तुर्की नाम से प्रसिद्ध है, मध्यकाल में उस पर रोम के शासकों का अधिकार लंबे समय तक रहा था. लिहाज़ा पश्चिम एशिया में उसका लोकनाम रूम पड़ गया. रूम के शहर कोन्या में रिहाइश की वजह से ही मौलाना मुहम्मद जलालुद्दीन, मौलाना-ए-रूम या रूमी कहलाए जाने लगे. उनके सिलसिले के सूफ़ी मुरीद उन्हें ख़ुदावंदगार के नाम से भी पुकारते थे. रूमी का जन्म 1207 ईस्वी में बलख़ में हुआ था. उनके पुरखों की कड़ी पहले ख़ली़फ़ा अबू बक़्र तक जाती है. उनके पिता बहाउद्दीन वलेद न सिर्फ़ एक आलिम मुफ़्ती, बल्कि बड़े पहुंचे हुए सूफ़ी भी थे. उनकी ख्याति दूर-दूर तक फैली हुई थी.
इस्लाम के मुताबिक़, अल्लाह ने कुछ नहीं से सृष्टि की रचना की यानी रचना और रचनाकार दोनों अलग-अलग हैं. इस्लाम का मूल मंत्र कलमा है ला इलाह इल्लल्लाह यानी अल्लाह के सिवा दूसरा कोई ईश्वर नहीं है. इसी कलमे पर सब मुसलमान ईमान लाते हैं. मगर सूफ़ी ये भी मानते हैं कि ला मौजूद इल्लल्लाह यानी उसके सिवा कोई मौजूद नहीं है. इस मौजूदगी में भी दो राय हैं. एक तो वहदतुल वुजूद (अस्तित्व की एकता) जिसे इब्नुल अरबी ने मुकम्मल शक्ल दी और जो मानता है कि जो कुछ है सब ख़ुदा है, और काफ़ी आगे चलकर विकसित हुआ. दूसरा वहदतुल शुहूद (साक्ष्य की एकता) जो मानता है कि जो भी है उस ख़ुदा से है.
इस्लाम में इस पूरी कायनात की रचना का स्रोत नूरे-मुहम्मद है. नूरुल मुहम्मदिया मत के मुताबिक़ जब कुछ नहीं था, तो वह केवल परमात्मा केवल अज़ ज़ात (स्रोत)  के रूप में था. इस अवस्था के दो रूप मानते हैं अल अमा (घना अंधेरा) और वहदियत (एकत्व). इस अवस्था में परमात्मा निरपेक्ष और निर्गुण रहता है. इसके बाद की अवस्था वहदत है, जिसे हक़ीक़तुल मुहम्मदिया भी कहा जाता है. इस अवस्था में परमात्मा को अपनी सत्ता का बोध हो जाता है. तीसरी अवस्था वाहिदियत की है, जिसमें वह परम प्रकाश, अहं, शक्ति और इरादे के विभिन्न रूपों में अभिव्यक्त हो जाता है. अन्य तरीक़े से इस हक़ीक़तुल मुहम्मदिया को ही नूरुल मुहम्मदिया भी कहा गया है. माना गया है कि ईश्वर ने जब सृष्टि की इच्छा की तो अपनी ज्योति से एक ज्योति पैदा की-नूरे मुहम्मद. शेष सृष्टि का निर्माण इसी नूर से माना गया है. सभी पैग़म्बर भी इसी नूर की अभिव्यक्ति हैं. इस विधान और नवअफ़लातूनी विधान के वन, नूस और वर्ल्ड सोल के बीच काफ़ी साम्य है. वैसे तो इन दोनों से काफ़ी पूर्ववर्ती श्रीमद्भागवत में वर्णित सांख्य दर्शन के अव्यक्त, प्रधान आदि भी ऐसी ही व्यवस्था के अंग हैं, लेकिन उसमें नूरुल मुहम्मदिया या वर्ल्ड सोल जैसी कोई शय नहीं है. इसके बाद इस दिव्य ज्ञान की व्यवस्था में और भी विभाजन हैं, पांच तरह के आलम, ईश्वर का सिंहासन, उसके स्वर्ग का विस्तार आदि तमाम अंग हैं. इस विधान के दूसरे छोर पर आदमी है और उसकी ईश्वर की तरफ़ यात्रा की कठिनाइयां हैं, उन्हें पहचानना और इस पथ के राही के लिए आसान करना ही इस ज्ञान का मक़सद है.
रूमी के कई क़िस्से बयां किए जाते हैं. एक बार एक क़साई की गाय रस्सी चबाकर भाग ख़डी हुई. क़साई उसे पक़डने को पीछे भागा, मगर गाय गली-गली उसे गच्चा देती रही और एक गली में जहां रूमी ख़डे थे, उन्हीं के पास जाकर चुपचाप रुक गई. रूमी ने उसे पुचकारा और सहलाया. क़साई को उम्मीद थी कि रूमी उसे गाय सौंप देंगे, मगर रूमी का इरादा कुछ और था. चूंकि गाय ने उनके पास पनाह ली थी, इसलिए रूमी ने क़साई से गुज़ारिश की कि गाय को क़त्ल करने की बजाय छो़ड दिया जाए. क़साई ने सर झुका कर इसे मान लिया. फिर रूमी बोले कि सोचे जब जानवर तक ़खुदा के प्यार करने वालों द्वारा बचा लिए जाते हैा तो ़खुदा की पनाह लेने वाले इंसानों के लिए कितनी उम्मीद है. कहते हैं कि फिर वह गाय कोन्या में नहीं दिखी. एक बार किसी मुरीद ने पूछा कि क्या कोई दरवेश कभी गुनाह कर सकता है. रूमी का जवाब था कि अगर वह भूख के बग़ैर खाता है तो ज़रूर, क्योंकि भूख के बग़ैर खाना दरवेशों के लिए ब़डा संगीन गुनाह है.

किताब के दूसरे खंड में रूमी का कलाम पेश किया गया है. इश्क़े-इलाही में डूबे रूमी कहते हैं-
हर रात रूहें क़ैदे-तन से छूट जाती हैं
कहने करने की हदों से टूट जाती हैं
रूहें रिहा होती हैं इस क़फ़स से हर रात
हाकिम और क़ैदी हो जाते सभी आज़ाद
वो रात जिसमें क़ैदी क़फ़स से बे़खबर है
खोने पाने का कोई डर नहीं व ग़म नहीं
न प्यार इससे, उससे कुछ बरहम नहीं
सू़िफयों का हाल ये है बिन सोये हरदम
वे सो चुके होते जबकि जागे हैं देखते हम
सो चुके दुनिया से ऐसे, दिन और रात में
दिखे नहीं रब का क़लम जैसे उसके हाथ में

बेशक इश्क़े-इलाही में डूबा हुआ बंदा ख़ुद को अपने महबूब के बेहद क़रीब महसूस करता है. वह इस दुनिया में रहकर भी इससे जुदा रहता है. रूमी के कलाम में इश्क़ की शिद्दत महसूस किया जा सकता है. रूमी कहते हैं-
क्योंकि ख़ुदा के साथ रूह को मिला दिया
तो ज़िक्र इसका और उसका भी मिला दिया
हर किसी के दिल में सौ मुरादें हैं ज़रूर
लेकिन इश्क़ का मज़हब ये नहीं है हुज़ूर
मदद देता है इश्क़ को रोज़ ही आफ़ताब
आफ़ताब उस चेहरे का जैसे है नक़ाब

इश्क़ के जज़्बे से लबरेज़ दिल सिर्फ़ और सिर्फ़ अपने महबूब की बात करना चाहता है, उसकी बात सुनना चाहता है, उसके बारे में सुनना चाहता है और उसे बारे में ही कहना चाहता है. यही तो इश्क़ है.
बेपरवाह हो गया हूं अब सबर नहीं होता मुझे
आग पर बिठा दिया है इस सबर ने मुझे
मेरी ताक़त इस सबुरी से छिन गई है
मेरी रूदाद सबके लिए सबक़ बन गई है
मैं जुदाई में अपनी इस रूह से गया पक
ज़िंदा रहना जुदाई में बेईमानी है अब
उससे जुदाई का दर्द कब तक मारेगा मुझे
काट लो सर, इश्क नया सिर दे देगा मुझे
बस इश्क़ से ज़िंदा रहना है मज़हब मेरे लिए
इस सर व शान से ज़िंदगी शर्म है मेरे लिए

बहरहाल, ख़ूबसूरत कवर वाली यह किताब पाठकों को बेहद पसंद आएगी, क्योंकि पाठकों को जहां रूमी के कई क़िस्से पढ़ने को मिलेंगे, वहीं महान सूफ़ी कवि का रूहानी कलाम भी उनके दिलो-दिमाग़ को रौशन कर देगा.

समीक्ष्य कृति : रूमी
संपादन : अभय तिवारी
प्रकाशक : हिन्द पॉकेट बुक्स
क़ीमत : 110 रुपये


0 comments |

78 सूर: अन-नबा

Author: Admin Labels::

मक्का में नाज़िल हुई और इसकी 40 आयतें हैं.
अल्लाह के नाम से शुरू, जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है
1. लोग आपस में किस चीज़ का हाल पूछते हैं
2. एक बड़ी ख़बर का हाल
3. जिसमें वे मतभेद रखते हैं
4. उन्हें जल्द ही मालूम हो जाएगा
5. फिर उन्हें जल्द ही ज़रूर मालूम हो जाएगा
6. क्या हमने ज़मीन को बिछौना
7. और पहाड़ों को मेख़ें नहीं बनाया
8. और हमने तुम लोगों को जोड़ों में पैदा किया
9. और तुम्हारी नींद को आराम देने वाला बनाया
10. और रात को पर्दा बनाया
11. और फिर हम ही ने दिन को ज़िन्दगी ग़ुज़ारने वाला बनाया
12. और तुम्हारे ऊपर सात मज़बूत आसमान बनाए
13. और हम ही ने सूरज को रौशन चिराग़ बनाया
14. और हम ही ने बादलों से मूसलाधार पानी बरसाया
15. ताकि उससे दाने और सब्ज़ी
16. और घने बाग़ पैदा करें
17. बेशक फ़ैसले का दिन मुक़र्रर है
18. जिस दिन सूर जलाया जाएगा और तुम लोग गिरोह में हाज़िर होंगे
19. और आसमान खोल दिए जाएंगे
20. तो उसमें दरवाज़े हो जाएंगे और पहाड़ चलाए जाएंगे, जो रेत होकर रह जाएंगे
21. बेशक जहन्नुम इंतज़ार में है
22. सरकशों का वही ठिकाना है
23. उसमें पड़े मुद्दतें गुज़ारेंगे
24. न वहां ठंडक का मज़ा चखेंगे और न ही पानी का
25. बहती हुई पीप के सिवा पीने को कुछ न मिलेगा
26. ये उनकी कारस्तानियों की सज़ा है
27. बेशक ये लोग आख़िरत के हिसाब की उम्मीद नहीं करते थे
28. और इन लोगों ने हमारी आयतों को बुरी तरह झुठलाया
29. और हमने हर चीज़ लिखकर गिन रखी है
30. अब तुम मज़ा चखो, हम तुम पर अज़ाब बढ़ाते जाएंगे
31. बेशक परहेज़गारों के लिए बड़ी कामयाबी है
32. जन्नत के बाग़ और अंगूर
33. और ख़ूबसूरत औरतें
34. शराब के लबरेज़ साग़र
35. वहां न बेहूदा बात सुनेंगे और न झूठ
36. ये तुम्हारे परवरदिगार की तरफ़ से काफ़ी ईनाम और सिला है
37. जो सारे आसमान और ज़मीन और जो इन सबके बीच है, उस सबका मालिक है, उसके सामने बात करना लोगों के बस में नहीं होगा
38. जिस दिन जिबरील और फ़रिश्ते क़तार में खड़े होंगे, वे नहीं बोलेंगे सिवाय उसके, जिसे ख़ुदा बोलने की इजाज़त दे
39. वह दिन बरहक़ है, जो शख़्स चाहे परवरदिगार की बारगाह में ठिकाना बनाए
40. हमने तुम लोगों को जल्द आने वाले अज़ाब से डरा दिया, जिस दिन आदमी अपने हाथो किए हुए आमाल देखेगा और काफ़िर कहेगा- काश मैं ख़ाक हो जाता
.......
हमने क़ुरआन करीम को आम ज़ुबान में पेश करने की कोशिश की है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग क़ुरआन को पढ़ सकें, समझ सकें और उन तक क़ुरआन का पैग़ाम पहुंच सके. तर्जुमा आलिमों का ही है.
-फ़िरदौस ख़ान

0 comments |

शाह अस्त हुसैन, बादशाह अस्त हुसैन

Author: Admin Labels:: ,


-फ़िरदौस ख़ान
इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम को ख़िराजे-अक़ीदत पेश करते हुए ख़्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती फ़रमाते हैं-
शाह अस्त हुसैन, बादशाह अस्त हुसैन
दीन अस्त हुसैन, दीने-पनाह हुसैन
सरदाद न दाद दस्त, दर दस्ते-यज़ीद
हक़्क़ा के बिना, लाइलाह अस्त हुसैन...
इस्लामी कैलेंडर यानी हिजरी सन् का पहला महीना मुहर्रम है. हिजरी सन् का आग़ाज़ इसी महीने से होता है. इस माह को इस्लाम के चार पवित्र महीनों में शुमार किया जाता है. अल्लाह के रसूल हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने इस माह को अल्लाह का महीना कहा है. साथ ही इस माह में रोज़ा रखने की ख़ास अहमियत बयान की गई है. 10 मुहर्रम को यौमे आशूरा कहा जाता है. इस दिन अल्लाह के नबी हज़रत नूह (अ.) की किश्ती को किनारा मिला था.

कर्बला के इतिहास मुताबिक़ सन 60 हिजरी को यज़ीद इस्लाम धर्म का ख़लीफ़ा बन बैठा. सन् 61 हिजरी से उसके जनता पर उसके ज़ुल्म बढ़ने लगे. उसने हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) के नवासे हज़रत इमाम हुसैन से अपने कुशासन के लिए समर्थन मांगा और जब हज़रत इमाम हुसैन ने इससे इनकार कर दिया, तो उसने इमाम हुसैन को क़त्ल करने का फ़रमान जारी कर दिया. इमाम हुसैन मदीना से सपरिवार कुफ़ा के लिए निकल पडे़, जिनमें उनके ख़ानदान के 123 सदस्य यानी 72 मर्द-औरतें और 51 बच्चे शामिल थे. यज़ीद सेना (40,000 ) ने उन्हें कर्बला के मैदान में ही रोक लिया. सेनापति ने उन्हें यज़ीद की बात मानने के लिए उन पर दबाव बनाया, लेकिन उन्होंने अत्याचारी यज़ीद का समर्थन करने से साफ़ इनकार कर दिया. हज़रत इमाम हुसैन सत्य और अहिंसा के पक्षधर थे. हज़रत इमाम हुसैन ने इस्लाम धर्म के उसूल, न्याय, धर्म, सत्य, अहिंसा, सदाचार और ईश्वर के प्रति अटूट आस्था को अपने जीवन का आदर्श माना था और वे उन्हीं आदर्शों के मुताबिक़ अपनी ज़िन्दगी गुज़ार थे. यज़ीद ने हज़रत इमाम हुसैन और उनके ख़ानदान के लोगों को तीन दिनों तक भूखा- प्यास रखने के बाद अपनी फ़ौज से शहीद करा दिया. इमाम हुसैन और कर्बला के शहीदों की तादाद 72 थी.

पूरी दुनिया में कर्बला के इन्हीं शहीदों की याद में मुहर्रम मनाया जाता है. दस मुहर्रम यानी यौमे आशूरा देश के कई शहरों में ताज़िये का जुलूस निकलता है. ताज़िया हज़रत इमाम हुसैन के कर्बला (इराक़ की राजधानी बग़दाद से 100 किलोमीटर दूर उत्तर-पूर्व में एक छोटा-सा क़स्बा) स्थित रौज़े जैसा होता है. लोग अपनी अपनी आस्था और हैसियत के हिसाब से ताज़िये बनाते हैं और उसे कर्बला नामक स्थान पर ले जाते हैं. जुलूस में शिया मुसलमान काले कपडे़ पहनते हैं, नंगे पैर चलते हैं और अपने सीने पर हाथ मारते हैं, जिसे मातम कहा जाता है. मातम के साथ वे हाय हुसैन की सदा लगाते हैं और साथ ही नौहा (शोक गीत) भी पढ़ते हैं. पहले ताज़िये के साथ अलम भी होता है, जिसे हज़रत अब्बास की याद में निकाला जाता है.

मुहर्रम का महीना शुरू होते ही मजलिसों (शोक सभाओं) का सिलसिला शुरू हो जाता है. इमामबाड़े सजाए जाते हैं. मुहर्रम के दिन जगह- जगह पानी के प्याऊ और शर्बत की छबीलें लगाई जाती हैं. हिंदुस्तान में ताज़िये के जुलूस में शिया मुसलमानों के अलावा दूसरे मज़हबों के लोग भी शामिल होते हैं.

विभिन्न हदीसों, यानी हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) के कथन व अमल (कर्म) से मुहर्रम की पवित्रता और इसकी अहमियत का पता चलता है. ऐसे ही हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने एक बार मुहर्रम का ज़िक्र करते हुए इसे अल्लाह का महीना कहा है. इसे जिन चार पवित्र महीनों में से एक माना जाता है.

एक हदीस के मुताबिक़ अल्लाह के रसूल हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने फ़रमाया कि रमज़ान के अलावा सबसे अहम रोज़े (व्रत) वे हैं, जो अल्लाह के महीने यानी मुहर्रम में रखे जाते हैं. यह फ़रमाते वक़्त नबी-ए-करीम हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने एक बात और जोड़ी कि जिस तरह अनिवार्य नमाज़ों के बाद सबसे अहम नमाज़ तहज्जुद की है, उसी तरह रमज़ान के रोज़ों के बाद सबसे अहम रोज़े मुहर्रम के हैं.

मुहर्रम की 9 तारीख़ को जाने वाली इबादत का भी बहुत सवाब बताया गया है. सहाबी इब्ने अब्बास के मुताबिक़ हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) ने फ़रमाया कि जिसने मुहर्रम की 9 तारीख़ का रोज़ा रखा, उसके दो साल के गुनाह माफ़ हो जाते हैं और मुहर्रम के एक रोज़े का सवाब 30 रोज़ों के बराबर मिलता है.
मुहर्रम हमें सच्चाई, नेकी और ईमानदारी के रास्ते पर चलने की प्रेरणा देता है.
क़त्ले-हुसैन असल में मर्गे-यज़ीद है
इस्लाम ज़िन्दा होता है हर कर्बला के बाद...

0 comments |

पैसों में बरकत

Author: Admin Labels:: , ,


Paison Mein Barkat
Aaj kal sub ka gila hai ke kamaye huwe paiso me barkat nahi hoti kahan se aate hain kahan jaate hain kuch pata nahi chalta!
Maal me burkat aur azafe keliye mujarib wazifa aap ki nazar hai. . .
Jub bhi paisa kahien se bhi mile, hath me jonhi aaye ” Bismillah irahmani Raheem ”
بسم الله الرحمن الرحيم
parhain aur jab bhi kisi ko paisa dain ya koi payment karein to ahista se ” Inna lillahi wa inna ilaihi Rajioon ”
انالله وانااليه راجعون
parhain.
Ab aayie is wazifa ka jaiza lete hain, Bismillah ki barkato se kon waqif nahi? Mukhtasarun iske parhne se barkat hoti hai goya jub aap paise lete hain to usme Allah ki barkat shamil hoti hai aur jub aap Inna lillahi wa ina ilaihi rajioon kehte hain aap is baat ka iqrar karte hain hum Allah he ke hain aur humien usi ki taraf lot ke jana hai, Huzoor s.a.w.s ki hadees k mutabiq nuqsan k waqt isse parhna chahiye chonke humara paisa ja raha hai kum ho raha hai ye bhi to aik tarha ka nuqsan huwa na?
Aik aur riwayat ke mutabiq aik sahabi ki wafat hogai uss sahabi ki biwi ko huzoor s.a.w.s ne isi dua ki talkeen farmayi aur kaha k Inshallah Allah aap ko aap ke nuqsan ke badle behtar cheez dega aur aik din isi dua ki badolat woh bewa huzoor s.a.w.s ke nikah me akar umul momineen bani Allahu Akbar! Issi bara inam aur kia ho sakta hai?
Aap agar iss amal ki mudawamat kariengay Inshallah aap dekhain gay ke kistarha aap ke maal aur paiso me barkat hoti hai.

Courtesy Rohaniyat

Rohaniyat's Blog

0 comments |

दौलत और रिज़्क की दुआ

Author: Admin Labels:: , , ,

हज़रत आयशा (रज़ि ) फ़रमाती हैं कि हज़रत अबूबकर सिद्दीक़ (रअ) फ़रमाते हैं कि मुझे हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने एक दुआ सिखाई है. हज़रत आयशा (रज़ि) ने कहा कि वह कौन सी दुआ है, तो उन्होंने ये दुआ बताई.

अगर किसी का क़र्ज़ सोने के पहाड़ के बराबर भी है, तो अल्लाह तअला उसकी ग़ैब से मदद करेगा और उसकी कमाई में ऐसी बरकत अता करेगा कि इंशाअल्लाह बचत भी होगी और कर्ज़ भी उतर जाएगा. 

 दौलत के लिए दुआ






 क़र्ज़ की अदायगी के लिए दुआ







0 comments |

ग़ुस्ल का तरीक़ा

Author: Admin Labels::


पहले ग़ुस्ल की नीयत करें.
फिर गट्टों तक तीन मर्तबा दोनों हाथ धोयें. फिर शर्मगाह धोयें.
फिर बदन पर कहीं गंदगी लगी हो, तो उसे धोयें.
उसके बाद वुज़ू करें.
फिर पहले सीधे कंधे पर तीन मर्तबा पानी डालें. फिर बाये कंधे पर तीन मर्तबा पानी डालें.
दोनों कान धोयें और फिर नहा लें.
याद रखें कि ग़ुस्ल में तीन चीज़ें फ़र्ज़ हैं. अगर इनमें से कोई चीज़ छूटी, तो गु़स्ल नहीं होगा. ग़ुस्ल नहीं, तो वुज़ू नहीं. ये तीन चीज़ें हैं-
1. तीन मर्तबा कुल्ली करना ज़रूरी है.
2.तीन मर्तबा नाक में पानी चढ़ाना ज़रूरी है.
3.पूरे जिस्म पर एक मर्तबा पानी बहाना, ताकि एक बाल भी सूखा न रहे.
-------------
बुख़ारी और मुस्लिम में हज़रत आइशा रज़ि. बयान फ़रमाती हैं कि अल्लाह के रसूल सल्ल. जनाबत से स्नान फ़रमाते तो पहले हाथ धोते, फिर बाएं हाथ से गुप्तांग को धोते और हाथ रगड़ लेते, फिर वुज़ू करते जिस तरह नमाज़ के लिए वुज़ू किया जाता है, फिर पानी सिर पर डालते, उसे बालों की जड़ों तक पहुंचाते, फिर पानी तीन बार सर में डालते. इस के बाद पूरे सिर पर पानी बहा लेते थे.

वाजबी स्नान के साथ वज़ू भी हो जाता है अलग से वुज़ू करने की आवश्यकता नहीं है. हां, अगर ऐसे ही स्नान कर रहे हैं तो स्नान से पहले वुज़ू की नियत ज़रूरी है. सुनन अबी दाऊद में सय्येदा आयशा से रज़ि. से रिवायत है कि “अल्लाह के रसूल सल्ल. स्नान के बाद वुज़ू नहीं करते थे.
साभार new-muslims


0 comments |

मौत के सिवा हर मर्ज़ का रूहानी इलाज

Author: Admin Labels:: ,

 मौत के सिवा हर मर्ज़ का रूहानी इलाज
लाइलाज मर्ज़ का इलाज

अच्छी सेहत के लिए दुआ

नज़र कभी कमज़ोर न हो

0 comments |

ब्लड प्रैशर का रूहानी इलाज

Author: Admin Labels:: ,

 ब्लड प्रैशर का रूहानी इलाज

0 comments |

بسم الله الرحمن الرحيم

بسم الله الرحمن الرحيم

Allah hu Akbar

Allah hu Akbar
अपना ये बलॊग हम अपने पापा मरहूम सत्तार अहमद ख़ान को समर्पित करते हैं...
-फ़िरदौस ख़ान

This blog is devoted to my father Late Sattar Ahmad Khan...
-Firdaus Khan

इश्क़े-हक़ी़क़ी

इश्क़े-हक़ी़क़ी
फ़ना इतनी हो जाऊं
मैं तेरी ज़ात में या अल्लाह
जो मुझे देख ले
उसे तुझसे मुहब्बत हो जाए

List

Popular Posts

Followers

Follow by Email

Translate

Powered by Blogger.

Search This Blog

इस बलॊग में इस्तेमाल ज़्यादातर तस्वीरें गूगल से साभार ली गई हैं
banner 1 banner 2